नये विमर्श का प्रस्थान-बिंदु : ‘‘जुर्रत ख्वाब देखने की’’

चर्चित कवयित्री रश्मि बजाज का सद्य प्रकाशित पांचवां काव्य-संकलन ‘‘जुर्रत ख्वाब देखने की’’ (अयन प्रकाशन, देहली) विचार तथा भाव के

Read more

घर-घर में धर्म की स्थापना के लिए बना कानून

-विमल वधावन योगाचार्य (एडवोकेट सुप्रीम कोर्ट) वर्ष 2007 में भारत की संसद में माता-पिता सहित वरिष्ठ नागरिकों के संरक्षण के

Read more

बच्चियों को कामुक शोषण से बचाने का महाअभियान

-विमल वधावन योगाचार्य (एडवोकेट सुप्रीम कोर्ट) कार्य स्थलों पर महिलाओं के कामुक शोषण को समाप्त करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय

Read more

कागजों में सिमट कर रह गए हैं मानवाधिकारों की रक्षा के कानून

10 दिसम्बर – मानवाधिकार दिवस – रमेश सर्राफ धमोरा (स्वतंत्र पत्रकार) मानव अधिकार दिवस यानि वह दिवस जिस दिन मानव

Read more

सरकारी चिकित्सा सेवा में सुधार के प्रयास

-विमल वधावन योगाचार्य (एडवोकेट सुप्रीम कोर्ट) प्रत्येक राज्य में मेडिकल शिक्षा से सम्बन्धित सभी पाठ्यक्रमों में भर्ती के समय सामान्यतः

Read more

राजस्थान में बागी बिगाड़ेंगे कांग्रेस-भाजपा का खेल

-रमेश सर्राफ धमोरा (स्वतंत्र पत्रकार) राजस्थान में आगामी सात नवम्बर को होने जा रहे 15 वीं विधानसभा के चुनाव में

Read more

गाँधी सत्य के मौखिक परम्परा के वाहक हैं : प्रो. गणेश नारायण देवी

नई दिल्ली। रजा फाउंडेशन एवं इंडिया इंटरनेशनल सेंटर के संयुक्त तत्वावधान में 20-11-2018 को शाम 06ः30 पर ‘गाँधी मैटर्स’ श्रृंखला

Read more