कम लागत में ज्यादा कमाई का जरिया

– ले. जन. डॉ. एस.पी कोचर
(सीईओ, टेलीकॉम सेक्टर स्किल काउंसिल)
मोबाईल फोन आज हर व्यक्ति की जरुरत बन गया है। मोबाईल फोन आज सबसे उपयोगी और जरुरी चीजों में से एक है। भारत भी मोबाइल फोन का उपयोग बहुत ज्यादा किया जाता है। मोबाईल इंडस्ट्री ने भारत में अच्छा खासा विकास किया है। इसके चलते इसमें रोजगार में भी बढ़ोतरी हुई है।
यदि आप इस क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं तो यह आपके लिए मोबाइल रिपेयरिंग एक बेहतर करियर विकल्प साबित हो सकता है। आप मोबाईल रिपेयरिंग का कोर्स सीखकर आत्मनिर्भर बन सकते हैं और छोटे से निवेश से भी आसानी से अपनी खुद का बिजनेस कर सकते हैं। वर्तमान में मोबाईल रिपेयरिंग एक उभरता हुआ करियर है। आज मार्केट में हर रोज नए स्मार्टफोन लांच हो रहे हैं और इसमें खराबी आना एक आम बात है, इसलिए इस क्षेत्र में रोजगार के अच्छे अवसर हैं।
भारतीय टेलीकॉम सेक्टर के विकास के साथ-साथ यहां ट्रेंड प्रोफेशनल की बढ़ती मांग नई संभावनाओं के दरवाजें खोल रही है। इस सेक्टर में 2022 तक संभावित अवसरों के लिए प्रोफेशनल तैयार करने के मकसद से टेलीकॉम सेक्टर स्किल काउंसिल ‘‘टीएसएससी’’ ने तैयारी शुरु कर रहा है। काउंसिल का अनुमान है कि 2022 तक टेलीकॉम सेक्टर की संभावित 15 प्रतिशत की वार्षिक विकास दर के लिए कुल 80 लाख प्रशिक्षित कर्मचारियों की आवश्यकता पड़ेगी। काउंसिल अखिल भारतीय स्तर की योजना बना रहा।
टेलीकॉम सेक्टर स्किल काउंसिल के सीईओ डॉ. एस.पी. कोचर ने बताया कि टेलीकॉम इंक्विपमेंट मैनुफैक्चरिंग सेक्टर में इस समय 0.45 मिलियन कर्मचारी कार्यरत हैं, और इस सेक्टर में 2022 तक तकरीबन 0.64 मिलियन वर्कफोर्स की जरूरत पड़ेगी, तो वही सर्विस प्रोवाईडर सब-सेक्टर्स में 0.62 मिलियन कर्मचारी कार्यरत हैं और यह संख्या 2022 तक 1.2 मिलियन तक पहुंचने की उम्मीद है। टेलीकॉम सेक्टर स्किल काउंसिल द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट्स के मुताबिक नए सर्विस प्रोवाइडर के आने और मेक इन इंडिया जैसी सरकारी योजनाओं से इस क्षेत्र में भारी उछाल आने की संभावना है। इस उछाल की वजह से कई लोगों की नौकरी मिलेगी।

बेहतर करियर के साथ तरक्की :- इतनी अधिक संख्या में मोबाईल हो चुके हैं, तो स्वाभाविक है कि इनकी सर्विसिंग व रिपेयरिंग करने वालों की मांग या आवश्यकता भी होगी। मोबाईल में कई तरह की समस्याएं आती है जैसे डेड मोबाईल, कीपेड प्रॉब्लम, सॉफ्टवेयर प्रॉब्लम, स्पीकर, माइक प्रॉब्लम आदि। फोन में किसी प्रकार की तकनीकि खराबी हो जाने पर लोगों को मोबाईल रिपेयरिंग की आवश्यकता होती है और लोगों की इसी जरुरत ने मोबाईल रिपेयरिंग को रोजगार प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है। मोबाईल के बढ़ते उपयोग को देखते हुए इसके रख रखाव, रिपेयरिंग, सॉफ्टवेयर लोडिंग, वायरस रिमूव करने, मोबाइल अपग्रेड करने, पासवर्ड ब्रेक, सेल परचेज आदि के क्षेत्र में जॉब की असीम संभावनाएं हैं। मोबाईल रिपेयरिंग एक ऐसा ही हुनर है, जिसे सीख कर चाहें तो आप किसी भी मोबाईल की षॉप पर मोबाईल रिपेयरिंग का कार्य कर सकते हैं।

कोई विशेष डिग्री की आवश्यकता नहीं :- मोबाईल रिपेयरिंग का कोर्स 8वीं पास से लेकर ग्रेजुएट अपनी जरुरत के हिसाब से कर सकते हैं, आभ्यर्थी को हिन्दी के अलावा थोड़ा बहुत अंग्रेजी की जानकारी होनी चाहिए। यदि आपको कंप्यूटर की बेसिक नॉलेज है तो यह आपके लिए बोनस प्वाइंट है। आजकल स्टूडेंट ट्रेडिशनल कोर्स की बजाय टेक्निकल कोर्स ज्यादा करते हैं, क्योंकि इसमें पैसे और टाइम को कम इंवेंट करना होता है, जबकि कमाई भी अच्छी होती है। मोबाईल रिपेयरिंग के इंस्ट्टीयूट भी देश में काफी संख्या में मौजूद हैं, जहां से कोर्स करके आप आसानी से इस क्षेत्र में अपनी करियर बना सकते हैं। मोबाईल मैकेनिक या इंजीनियर बनने के लिए आपको सबसे पहले किसी अच्छे संस्थान से कोर्स करना पड़ेगा। इसके लिए आप सरकारी या प्राइवेट संस्थान का चुनाव कर सकते हैं। मोबाईल रिपेयरिंग में आप किसी भी संस्थान से डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स आसानी से कर सकते हैं।

किस्म-किस्म के कोर्स :- भारत के विभिन्न षहरों में सैकड़ों ऐसे इंस्टीट्यूट हैं, जो अभ्यार्थियों को मोबाईल रिपेयरिंग की ट्रेनिंग देते हैं। मोबाईल रिपेयरिंग में प्रमुख कोर्स निम्नलिखित प्रकार से हैंः- डिप्लोमा इन मोबाइल रिपेयरिंग एंड मेंटेनेंस, सर्टिफिकेट कोर्स इन मोबाइल इंजीनियरिंग, डिप्लोमा इन मोबाइल फोन रिपेयरिंग, मोबाईल फोन मल्टीमीडिया कोर्स, मास्टर ऑफ साइंस इन मोबाईल एप्लिकेशन, बेसिक मोबाईल फोन एंड चिप लेवल ट्रेनिंग, मोबाईल एप्लिकेशन एंड सर्विसेज कोर्स इत्यादि।

संतोषजनक वेतन पैकेज :- मोबाईल रिपेयरिंग के काम में आप इससे पचास हजार रुपये प्रतिमाह कमा सकते हैं। यह आपके काम, जगह के चुनाव और ग्राहकों की तादाद पर निर्भर करेगा। मोबाईल रिपेयरिंग के क्षेत्र में एक व्यक्ति निजी कंपनी में 20,000 से 30,000 रुपये प्रति महीना आसानी से कमा सकते हैं। मोबाईल रिपेयरिंग का कोर्स करने के बाद आप आसानी से दुकान खोलकर 20 से 25 हजार रुपये ही महीना कमा सकते हैं और यदि आपको मोबाईल रिपेयरिंग का अच्छा ज्ञान है, तो आपका चयन किसी प्रतिश्ठित कंपनी में हो सकता है।

संस्थान :-
1. टेलीकॉम सेक्टर स्किल काउंसिल
प्लॉट न. 105, सेक्टर 44 गुडगांव-122003
फोन न. 0124-4148029
वेबसाइट :- www.tsscindia.com

2. ब्रिटको मोबाइल रिपेयरिंग कोर्स, फरीदाबाद
वेबसाइट :- www.britco.co.in

3. एनएसआईसी, नई दिल्ली
वेबसाइट :- www.nsic.co.in

4. आईटीआई, करोल बाग, नई दिल्ली
वेबसाइट :- www.itidelhi.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *