‘घोल’ एक क्राइम हॉरर वेब सीरीज है

असल जिंदगी से कुछ अलग, दुनिया के कुछ छुपे हुए रहस्यों की खोज और उसमें समाहित अजीब तरह की कश्मकश। आमतौर पर डर क्या चीज है, यह किसी को बताया नहीं जाता, लेकिन समाज में कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो डर के पीछे क्या है, इसकी खोज करते हैं। आखिर डर क्यों लगता है? क्यों हम कुछ अलग तरह की बातों से डर जाते हैं? इन बातों को जानने या ऐसी फिल्में देखने के लिए हर इंसान के अंदर एक अलग तरह क्रेज होता है। नेटफ्लिक्स पर 24 अगस्त से शुरू हुई वेब सीरीज ‘घोल’, इसी डर का पर्दाफाश करने जा रही है। नेटफ्लिक्स इंडिया की इस पहली डरावनी मिनी वेब सीरीज की एक विशेष स्क्रीनिंग सिनेपोलिस (पूर्व में डीटी स्टार सिनेमाज), डीएलएफ साकेत, नई दिल्ली में आयोजित जागरण फिल्म फेस्टिवल में की गई। नेटफ्लिक्स की इस मूल श्रृंखला में कई प्रसिद्ध नामों- ‘लस्ट स्टोरीज’, ‘सैक्रेड गेम्स’ फेम अभिनेत्री राधिका आपटे, ‘तुम्हारी सुलू’ फिल्म फेम एक्टर मानव कौल, चर्चित फिल्म निर्देशक पैट्रिक ग्राहम और प्रतिभावान निर्माता विक्रमादित्य मोटवानी के साथ कई अन्य नामी कलाकारों को शामिल किया गया है। ये सभी जागरण फिल्म फेस्टिवल के डायरेक्टर एवं एक प्रशंसित भारतीय फिल्म आलोचक मयंक शेखर के साथ ‘घोल’ के अनुभवों पर आधारित एक रोमांचक चर्चा में शामिल होने के लिए उपस्थित भी थे। सीरीज की कहानी और निर्माण को बढ़ावा देने के प्रयास में नेटफ्लिक्स और जागरण फिल्म फेस्टिवल ने जीएचओयूएल की विशेष स्क्रीनिंग के साथ भागीदारी भी की। उल्लेखनीय है कि जागरण फिल्म फेस्टिवल पूरे साल इस तरह के कार्यक्रमों के लिए भविष्य में बेहतरीन योजना भी बना रहा है।
एक इंडो-अमेरिकी को-प्रोडक्शन ‘घोल’ एक भविष्यवादी, दूरस्थ सैन्य पूछताछ केंद्र में स्थापित तीन भाग की सीरीज है, जहां राधिका आप्टे द्वारा निभाई गई निदा रहीम और मानव कौल एक केस की पूछताछ करने के दौरान ऐसे आदमी से मिलते हैं जो इस दुनिया से वास्ता नहीं रखता है। जिसके बाद फिल्म की कहानी हॉरर और थ्रिलर बन जाती है। इसमें दिखाया गया है कि सामान्य तौर पर कैसा लगता है जब कैदी अपने पूछताछ करने वालों को अपने रहस्यों को उजागर करके उनके विचारों को ही बदल देता है, जिससे उन्हें पता चलता है कि वह एक घातक, अलौकिक खतरे से निपट रहे हैं।
फिल्म की कहानी पैट्रिक ग्राहम ने लिखी और निर्देशन भी किया है। ‘घोल’ एक क्राइम हॉरर है। इसे तीन पार्ट्स में बनाया गया है। दरअसल, घोल एक मिलिट्री इंटेरोगेशन सेंटर पर बेस्ड कहानी है, जहां एक खूंखार आतंकी को बंदी बनाकर रखा जाता है। इसमें राधिका अपने अब्बू को पकड़वाने में पुलिस की मदद करती है। मानव कौल एक पुलिस अफसर के किरदार में हैं। इस वेब सीरीज में हॉरर, क्राइम के साथ सस्पेंस भी भरपूर है, जिसके कारण कहानी में आने वाले ट्विस्ट एंड टर्न्स सीरीज को रोमांचित बनाते हैं।
इस मौके पर ‘घोल’ के को-प्रोड्यूसर विक्रमादित्य मोटवाने ने कहा, ‘‘घोल’ बहुत ही जबरदस्त हॉरर सीरीज होने वाली है, जिस पर हमें गर्व होगा। यह सैक्रेड गेम्स के बाद नेटफ्लिक्स के साथ हमारा दूसरा कोलाबोरेशन है। हमें पूरी उम्मीद है कि सैक्रेड गेम्स देखने के बाद जिस तरह से लोगों को मजा आया, वैसा ही मजा उन्हें ‘घोल’ देखने के बाद आएगा।’
वहीं, जागरण प्रकाशन की रणनीति, ब्रांड और व्यापार विकास के वरिष्ठ उपाध्यक्ष बसंत राठौड़ ने कहा कि ‘नेटफ्लिक्स के साथ साझेदारी करने के लिए यह एक रोमांचक अनुभव रहा है। नेटफ्लिक्स कुछ उच्च गुणवत्ता वाली भारतीय सामग्री को प्रस्तुत कर रहा है और हम जागरण फिल्म महोत्सव में ऐसी महान प्रतिभा से जुड़ने के लिए गर्व महसूस करते हैं।’
बता दें कि नेटफ्लिक्स वेब सीरीज ‘घोल’ में आपको शानदार विजुअल्स, कमाल के सेट्स और कलाकारों की बेहतरीन एक्टिंग देखने का मौका मिलने वाला है। खासकर ‘घोल’ का बैकग्राउंड संगीत, जो कि ‘उड़ता पंजाब’ फेम नरेन चंदावरकर और बेनेडिक्ट टेलर ने दिया है, लाजवाब है। सिर्फ इतना ही नहीं, फिल्म ‘रमन राघव 2.0′ को शूट करने वाले और बॉलीवुड अभिनेता अनिल कपूर की चर्चित टीवी सीरीज 24 के मुख्य सिनेमेटोग्राफर जय ओझा की कलाकारी भी आपको ‘घोल’ में देखने को मिलेगी। नेटफ्लिक्स की अब तक की सभी वेब सीरीज में आपको बॉलीवुड के बेहतरीन कलाकारों की एक्टिंग का जलवा देखने को मिला है। इस नई सीरीज में भी आपको राधिका आप्टे, मानव कौल, महेश बलराज और रत्नावली भट्टाचार्जी जैसे शानदार कलाकारों की अदाकारी देखने को मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *