मकर संक्रांति का त्योहार कैसे मनाते हैं हमारे टीवी के कलाकार

बिज्जल जोशी :
बिज्जल जोशी ने शो ‘लेडीज स्पेशल’ में बिंदु देसाई का किरदार निभाती है, “एक गुजराती होने के नाते, जब भी मुझे संक्रांति पर समय मिलता है, तब मैं अपने गृह नगर – सूरत जाती थी, जहां यह लोकलुभावन है जिसे “उत्तरायण” कहा जाता है। हर कोई अपनी छतों पर इकट्ठा होता था और तेज संगीत बजाता था। हम एक प्रतियोगिता करते थे जहां पतंग उड़ाने के खेल के साथ-साथ सबसे तेज संगीत बजाने वाला जीतता है। गुजरातियों के लिए भी, हर त्यौहार अच्छा और स्वादिष्ट भोजन लेकर आता है और संक्रांति पर, हम सात अलग-अलग सब्जियों के साथ विशेष खिचड़ा बनाते हैं, जो स्टोव पर नहीं बल्कि एक विशेष रूप से बनाए गए चूल्हे पर पकाया जाता है। इसमें विशेष लड्डू बनाए जाते थे जिनमें सिक्के छिपाए जाते हैं और उन सिक्कों को ढूंढना एक ऐसी ही रोमांचक चीज हुआ करती थी। सभी के पास कम से कम 50 से 60 पतंगें हुआ करती थीं। इसलिए ज्यादातर मैं इस त्योहार को लेकर हमेशा उत्साहित रहती हूं। बचपन की सबसे पसंदीदा यादों में से एक, जब अगले दिन हमारे स्कूल होते थे और हम पट्टी बांधते थे और एक दिन के लिए लिखने से बच जाते थे कि पतंग के मांझा के कारण हमारे हाथ पर निशान पड़ गए।”

गिरिजा ओक :
गिरिजा ओक शो ‘लेडीज स्पेशल’ में मेघना का किरदार निभाती हैं, “मुझे इस त्योहार के बारे में सबसे अधिक यह पसंद है कि हमें इस दिन काला रंग पहनना होता है और मेरा पसंदीदा रंग काला होने की वजह से यह मुझे खुश करता है। बचपन में, मेरी मां मेरे लिए ब्लैक सिल्क फ्रॉक बनाती थी जो मैं बहुत शौक से पहनती थी। और अब भी मेरे पास बहुत सारी काली साड़ियां हैं जिन्हें मैं इस अवसर पर विशेष रूप से पहनना पसंद करती हूँ। मैं इस उत्सव के दिन काला पहनने के इस विचार से बहुत रोमांचित थी जो कि अधिकांश संस्कृतियों में ऐसा नहीं होता है। इसके अलावा हम पतंग उड़ाने के बारे में उत्साहित थे और हालांकि मैं ज्यादा पतंग नहीं उड़ाती थी, दूसरी तरफ मेरी मां एक विशेषज्ञ थीं। वह अपने हाथों से अपने धागे बनाती थी। इसके अलावा हमारे पास हल्दी कुमकुम की एक परंपरा थी, जहां सभी महिलाएं एक साथ आती थीं और कुछ रसोई या घरेलू सामान भी भेंट किया जाता था। इसलिए, दिन के अंत में, हमारे पास बिल्कुल अनोखे और अलग-अलग रसोई के सामान होते थे, जैसे कि पीलर या प्याज चॉपर और अन्य छोटे सामान।”

छवि पांडे :
छवि पांडे ‘लेडीज स्पेशल’ में प्रार्थना का किरदार निभाती हैं, “मैं पटना से ताल्लुक रखती हूं जहाँ इस त्योहार को दही-चिवड़ा के नाम से जाना जाता है और इस दिन को “तिल” बहुत ही शुभ और महत्वपूर्ण माना जाता है। लेकिन शूटिंग के कारण, हमें अपने परिवारों के पास जाने और जश्न मनाने के लिए समय नहीं मिलता है, लेकिन सोनी टेलीविजन के कारण, हम इसे अपनी टीम के साथ अपने सेट पर मनाते हैं जो मेरे परिवार की तरह ही है। हर साल मेरे बड़े पापा मेरे लिए तिलकुट भेजते हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि यह 14 जनवरी से पहले मेरे पास पहुंच जाए। और यह कि मैं उस दिन विशेष रूप से चिवड़ा के साथ इसे खाऊं, जिसे मुंबई में पोहा के नाम से जाना जाता है, दही और दूध के साथ। जब अवसरों की बात आती है तो मैं वास्तव में अपने परिवार को विशेष रूप से याद करती हूं, क्योंकि मुझे अपने कजिन्स के साथ इसे मनाने और त्योहारों का आनंद लेने की याद आती है। लेकिन इसे कवर करने के लिए, मैं अपना दिन प्रार्थना के साथ शुरू करती हूं और अपने परिवार को फोन करके उन्हें शुभकामनाएं देती हूं और उनका आशीर्वाद मांगती हूं।”

रणदीप राय :
रणदीप राय शो ‘ये उन दिनों की बात है’ में समीर का किरदार निभाते हैं,“मैं झांसी का हूं जहां जनवरी में मौसम बहुत ठंडा रहता है लेकिन हम इस दिन तिल के तेल से सुबह जल्दी स्नान करने के लिए मजबूर होते हैं। इसलिए यह हमेशा से मेरे लिए एक मुश्किल काम रहा है। और हमें तिल और तिल के लड्डू भी खाने थे। लेकिन मेरे लिए जो खास है वह यह है कि इस दिन यानी 14 जनवरी को मेरे बड़े भाई का जन्म हुआ जो मेरी पीढ़ी का पहला पुरुष बच्चा है और इसलिए सभी उससे प्यार करते हैं और हम इस दिन को बहुत उत्साह से मनाते हैं। मकर संक्रांति के अवसर पर, मैं अपने शो श्ये उन दिनों की बात हैश् के सेट पर अपने दोस्तों के साथ पतंग उड़ाने की योजना बना रहा हूं। जहां तक 2019 की संक्रांति की बात की जाए, तो मैंने इस साल अपना खुद का घर खरीदा है और मेरे शिफ्ट होने के बाद मकर संक्रांति आने वाला पहला त्यौहार है, इसलिए मैं इसे अपने परिवार और दोस्तों के साथ अपने घर पर इसे मनाने की योजना बना रहा हूं।

सृष्टि जैन :
सृष्टि जैन शो ‘मैं मायके चली जाउंगी तुम देखते रहियो’ में जया का चरित्र निभाती हैं, “मुंबई में दस साल हो गए हैं, और तब से हम अपनी छत पर संक्रांति का जश्न पतंगबाजी करके और एक साथ मिलकर मना रहे हैं और हम साथ में लंच करते हैं। मुझे याद है, जब मैं बारह वर्ष की थी, हम अपने कजिन्स के साथ भोपाल में थे और वे मेरा मजाक उड़ा रहे थे कि मैं पतंग नहीं उड़ा सकती। इसलिए यह पहली बार था जब मैंने इसे चुनौती के रूप में लिया और मैं टैंक के शीर्ष पर खड़ी और पहली बार स्वतंत्र रूप से पतंग उड़ाई। और मुझे इस पर बहुत गर्व था।’’

अनिरुद्ध दवे :
अनिरुद्ध दवे शो ‘पटियाला बेब्स’ में हनुमान सिंह का किरदार निभाते हैं, “जयपुर से होने के कारण मुझे जयपुर की तुलना में मुंबई में विभिन्न प्रकार के अनुभव हुए हैं। मुझे पतंग उड़ाना बहुत पसंद है और हम सुबह 5 बजे से रात तक छतों पर रहते थे और फिर लैन्टर्न लगाते थे। वहां छतों पर म्यूजिक सिस्टम होते थे जो नवीनतम संगीत बजाते हुए मनोरंजन को और भी बढ़ाते थे। क्योंकि 13 जनवरी को लोहड़ी है और 14 तारीख को मकर संक्रांति है, इसलिए जयपुर में त्योहार मनाने का अपना तरीका है और यह मजेदार है। मैं भी इस दिन का शौकीन हूं क्योंकि यह मेरे गुरु जी का जन्मदिन है जो इस दिन पड़ता है और मैं उनका बहुत बड़ा अनुयायी हूं। इस साल मैं सेट से एक दिन की छुट्टी लेने और अपने दोस्तों और परिवार के साथ सूरत में उनके जन्मदिन और मकर संक्रांति मनाने की योजना बना रहा हूं, जिसे गुजरात में उत्तरायण के रूप में जाना जाता है।”

अबीर सूफी :
अबीर सूफी ‘मेरे साईं’ में साईं बाबा का चरित्र निभाते हैं, ‘‘हम सभी जानते हैं कि हम मकर संक्रांति पर कुछ दान करते हैं, इसलिए मैं और मेरा परिवार गरीब या जरूरतमंदों को दान देते हैं। यह एक आशीर्वाद माना जाता है और हम हर साल इसे बहुत धार्मिक रूप से करते हैं। हम पिछली रात लोहड़ी भी मनाते हैं और पॉपकॉर्न, ग्राउंड नट और रेवड़ी खाते हैं। हम शुभ आग जलाते हैं और परिवार और दोस्तों के साथ त्योहार का आनंद लेते हैं।”

अशनूर कौर :
अशनूर कौर ‘पटियाला बेब्स’ में मिनी की भूमिका निभाती हैं, “हम लोहड़ी को बहुत ही आकर्षक तरीके से मनाते हैं। लोहड़ी, पंजाबी त्योहारों में से एक है। मैं वाहेगुरु का आशीर्वाद लेने के लिए गुरुद्वारा जाती हूं और अपने रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ इसे मनाती हूं। चूंकि, मेरे प्रीलिम्स चल रहे हैं और आगामी बोर्ड परीक्षाएं और शूटिंग भी हैं, मैं इस साल लोहड़ी नहीं मना पाऊंगी। लेकिन मैं गुरुद्वारा जरूर जाऊंगी और आशीर्वाद लूंगी। इस बार मैं डबल लोहड़ी मना रही हूं, एक मेरे शो पटियाला बेब्स में और दूसरा अपने परिवार के साथ।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *