दिल्ली के अस्पताल ने बीमार पाक के पूर्व हाॅकी कप्तान मंसूर अहमद का निःशुल्क इलाज करने की पेशकश की

नई दिल्ली। पाकिस्तान की हाॅकी टीम के पूर्व कप्तान मंसूर अहमद ने एक दिन पूर्व भारत में हृदय प्रत्यारोपण कराने के लिए मदद मांगी थी। उसके एक दिन बाद भारत के कई अस्पताल एवं संगठन बीमाार चल रहे दिग्गज पाकिस्तानी खिलाडी के लिए मदद का हाथ बढ़ाया है।
गौरतलब है कि मंसूर अहमद गंभीर हृदय समस्याओं से पीड़ित हैं और वह अपने इलाज के लिए भारत में मदद की गुहार करते हुए वीडियो जारी किया है। समझा जाता है कि उन्हें कुछ साल पूर्व लगाए गए पेसमेकर एवं स्टेंट के कारण ही अब हृदय संबंधित समस्याएं हो रही हैं।
दिल्ली के अस्पताल – कालरा हास्पिटल एंड एसआरसीएनसी ने पाकिस्तान की बीमार हाॅकी लीजेंड को उनके रूग्न हृदय का निःशुल्क इलाज करने की पेशकश दी है। अस्पताल की ओर से इस आशय का एक पत्र भारत स्थित पाकिस्तानी दूतावास को सौंपा गया है। इस पत्र में कहा गया है कि मंसूर अमद को तत्काल चिकित्सा की जरूरत है और मंसूर अहमद मानते हैं कि भारत और पाकिस्तान के बीच के मौजूदा राजनीतिक एवं समाजिक तनावों के बावजूद उन्हें भारत से सहायता मिलेगी।
कालरा हास्पिटल के सीनियर वाइस प्रसीडेंट श्री संजय भट्टाचार्य ने बताया कि प्रसिद्ध कार्डियोलॉजिस्ट एवं कालरा हास्पीटल एंड एसआरसीएनसी के निदेशक डाॅ. आर एन कालरा ने पाकिस्तानी हाकी टीम के पूर्व कप्तान को निरूशुलक उपचार करने की पेशकश की है।
मीडिया रिपोर्टों के अनुसार चेन्नई हाकी एसोसिएशन एवं चेन्नई के कुछ सर्जनों ने भी मंसूर अहमद को मदद देने की पेशकश की है।
मंसूर अहमद 1990 में पाकिस्तान की हाकी टीम के कप्तान थे और उस दौर में उनका काफी नाम था। उनकी कप्तनी में 1994 में सिडनी वल्र्ड कप में पाकिस्तान ने जीत हासिल की थी और तब से वह पाकिस्तान के खेल आइकन बने हुए हैं। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार श्री मंसूर अहमद ने करीब 4-5 साल पहले सर्जरी कराई थी लेकिन उनकी समस्या का समाधान नहीं हुआ। गत माह उनकी स्थिति और बिगड़ गई और उनका इलाज करने वाले चिकित्सक ने कहा कि हृदय प्रत्यारोपण ही एकमात्र समाधान है। उनका इलाज कराची स्थित जिन्ना पोस्टग्रेजुएट मेडिकल कालेज में चल रहा है अैर उनके चिकित्सकीय स्थिति की रिपोर्ट भारत के अलावा अमरीका के कैलिफोर्निया के कुछ अस्पतालों को भेजी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *