लव मैटर्स इंडिया और केशव सूरी फाउंडेशन की एलजीबीटीक्यू पर मीडिया वर्कशॉप

नई दिल्ली। एलजीबीटीक्यू और एसएचएसआर से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर लव मैटर्स इंडिया और केशव सूरी फाउंडेशन की साझेदारी में मीडिया वर्कशॉप रविवार को आयोजित की जाएगी। इस वर्कशॉप का आयोजन एलजीबीटीक्यू (लेस्बियन, गे, बाईसेक्सुअल, ट्रांससेक्सुअल आदि) और एसएचएसआर मुद्दों पर संवेदनशील और उचित रिपोर्टिंग को प्रोत्साहित करने के लिए किया जाएगा। यह वर्कशॉप 16 दिसंबर 2018, रविवार को नई दिल्ली के “द ललित होटल” में आयोजित की जाएगी।
केएसएफ और लव मैटर्स इंडिया का प्रेस 4 चेंज प्रोजेक्ट ने स्वस्थ लोकतंत्र के एक स्तंभ के रूप में मीडिया की महत्ता को पहचाना है और धारा 377 के खिलाफ जनमाहौल बनाने में मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका की सराहना की है। हालांकि लव मैटर्स इंडिया के शोधकर्ताओं ने यह तथ्य भी उभारा है कि एसआरएचआर और एलजीबीटीक्यू के मुद्दों का मीडिया में प्रतिनिधित्व काफी कम है। इस स्थिति को बदलने और सकारात्मक सामाजिक बदलाव लाने के लिए प्रेस 4 चेंज प्रोजेक्ट मीडिया के साथ कई स्तरों पर काम करने का लक्ष्य तय कर रहा है। यह वर्कशॉप पहली है। इसमें इस प्रोजेक्ट के महत्वपूर्ण पहलुओं की जानकारी दी जाएगी।
वर्कशॉप का आयोजन ऋचा वशिष्ठ की ओर से किया जाएगा, जो एलजीबीटी क्यू और एसआरएचआर मुद्दों के लिए अनुभवी प्रशिक्षक है। वह लिंग, सेक्स और लैंगिकता पर इस परियोजना की विभिन्न चुनौतियों को वर्कशॉप में मौजूद भागीदारों के सामने स्पष्ट करेंगी। उनका कहना है कि लिंग और सेक्स संबंधी मुद्दों पर इन विशेष संमुदायों को काफी कुछ झेलना पड़ता है। इसलिए पत्रकारों को इस मुद्दे की तथ्य सहित रिपोर्टिंग करनी चाहिए, ताकि इस मुद्दे पर किसी की भावनाओं को ठेस न पहुंचे।
लव मैटर्स इंडिया के कंट्री हेड विथिका यादव ने कहा, “हम इस सफर को शुरू करने और सभी पत्रकारों से मिलने की संभावना से बेहद उत्साहित हैं। मीडिया ने इस मुद्दे पर हमेशा प्रमुख भूमिका निभाई है। अब धारा 377 के हटने के बाद प्रेस की जिम्मेदारी काफी बढ़ गई है। हम मीडिया के साथ लंबे समय तक काम कर इस दिशा में बदलाव लाने के लिए प्रयत्नशील रहेंगे।“
केशव सूरी फाउंडेशन के संस्थापक और अध्यक्ष केशव सूरी ने कहा, “मैंने धारा 377 के खिलाफ लड़ाई में समर्थन देने के लिए हमेशा मीडिया को धन्यवाद दिया हूं। मैं इस वर्कशॉप के आयोजन की घोषणा से से बहुत खुश हूं कि हमें एक बार फिर इस संवेदनशील मुद्दे पर प्रेस के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत का मौका मिलेगा। मैं उम्मीद करता हूं कि प्रेस का यह सहयोग लंबे समय तक जारी रहोगा क्योंकि अभी हमें लंबी लड़ाई लड़नी है। हमारा लक्ष्य एलजीबीटी क्यूआईए़ कम्युनिटी को गले लगाना, उन्हें सशक्त बनाना और उन्हें मेन स्ट्रीम में शामिल करना है। मुझे विश्वास है कि यह प्रोजेक्ट और इवेंट इस लक्ष्य की प्राप्ति में अपना बहुमूल्य योगदान देने में सफल रहेगा।
लव मैटर्स एक ग्लोबल मल्टी मीडिया इनीशिएटिव है, जिसमें नौजवानों को प्यार, सेक्स और रिलेशनशिप के संबंध में अपपने विचार रखने के लिए प्रेरित किया जाता है। इसकी मौजूदगी दुनिया के 5 देशों, भारत, केन्या, चीन, लैटिन अमेरिका (मैक्सिको और वेनेजुएला) और मिस्र में हैं। लव मैटर का मानना है कि लव, सेक्स और रिलेशनशिप एक अधिकार, पसंद और उल्लास का सवाल होना चाहिए। इसे संभव बनाने के लिए इस संवेदनशील मुद्दे से संबंधित जानकारी उचित ढंग से लोगों को देनी चाहिए।
केशव सूरी फाउंडेशन एक भेदभाव रहित प्लेटफॉर्म बना रहा है, जिसमें कम्युनिटी के सदस्य अपनी कहानियों और भावनात्मक और मानसिक दर्द, पीड़ा को अभिव्यक्ति दे सके। हम एलजीबीटीक्यू समुदाय को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराकर उन्हें गले लगाने, सशक्त करने और समाज की मुख्यधारा में लाने के मिशन पर हैं। इसके अतिरिक्त दफ्तरों को भी इस मुद्दे पर संवेदनशील बनाने के प्रयास करने चाहिए, जिससे जीवन में विविधता का सब लोग आदर कर सके। दफ्तरों में एलजीबीटीक्यू समुदाय के साथ कोई भेदभाव न हो और उन्हें सभी तरह का लाभ मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *