वेणु शर्मा ने सुशासन के विभिन्न तरीकों पर चर्चा के लिए म्यानथारात्मा प्लेटफॉर्म लॉन्च किया

मेंगलुरु बेस्ड मैनेजमेंट और बिजनेस सलाहकार वेणु शर्मा ने ‘myantharathma.org  नाम से प्लेटफॉर्म लॉन्च किया है। सरकार, मतदाताओं और मीडिया में संवाद प्रक्रिया को सुधारने के उद्देश्य से www.myantharathma.org‘ नाम से यह प्लेटफॉर्म लॉन्च किया गया है। यह एक प्लेटफॉर्म है, जहां भारत के शिक्षित पुरुष और महिलाएं भारत को बेहतर देश बनाने के संबंध में अपने विचारों और आइडियाज को साझा कर सकते हैं।
वेणु ने कहा, “हमें देश के युवाओं को मैनेजमेंट के आधुनिक मंत्र सिखाने के साथ राष्ट्रीय विरासत और प्राचीन गौरवशाली इतिहास की भी जानकारी देनी चाहिए। हमें उन्हें स्थानीय स्तर पर उत्पादकता बढ़ाने के लिए प्रेरित करना चाहिए। हम उन्हें टीक्यूएम, केआईजेडएएन (किजान) जैसे सर्वश्रेष्ठ मैनेजमेंट मंत्रों की शिक्षा देनी चाहिए। हमें अपने नौजवान और नेक्सट जेनरेशन के बच्चों को भारतीय विरासत और वेदों की शिक्षा देनी चाहिए।“
देश में लोकसभा के चुनाव जल्द होने वाले है इसीलिए यह विचार करना बेहद आवश्यक है कि मौजूदा सरकार ने पिछले 5 साल में किस तरह काम किया है और किन मोर्चों पर यह मतदाताओं की उम्मीद पर खरी उतरी है। इसलिए यह विचार-विमर्श करना बहुत जरूरी हो जाता है कि इसके अलावा और क्या होना चाहिए और भविष्य में राजनैतिक दलों को अपने विजन दस्तावेजों और चुनावी घोषणापत्र पर किस तरह से काम करना चाहिए।
इस प्लेटफॉर्म को लॉन्च करने का मकसद भारत के आम नागरिकों, मीडिया और नीति निर्माताओं के बीच विचार-विमर्श या संवाद की प्रक्रिया को शुरू करना है, जिससे भारत के बेहतर भविष्य की बुनियाद रखने की दिशा में सभी लोग मिलकर एक साथ काम कर सकें। म्यानथारात्मा का मकसद स्वस्थ दोतरफा संवाद के लिए इस मंच से उभरी हुई आवाज को नीति निर्माताओं तक पहुंचाना है।
वेणु के अनुसार विकासशील से विकसित देश बनने के लिए भारत जैसे जटिल देश, जहां विभिन्न जातियों, धर्मों और प्रांतों के लोग रहते हैं, का आधार और बुनियाद मजबूत होनी चाहिए। केरल के कासरागोड निवासी वेणु कहते हैं, “छोटे विकसित देशों की तुलना में भारत अपनी प्रकृति से ही काफी जटिल है क्योंकि यहां हमें विविधतापूर्ण संस्कृति देखने को मिलती है, जहां विभिन्न भाषाओं, जातियों, रंग-रूप, भावनाओं, शहरी और ग्रामीण जीवन में अंतर, अमीर और गरीब के बीच बढ़ती खाई, लिंग पर आधारित भेदभाव और विभिन्न धर्म आदि पाए जाते हैं। कुल मिलाकर देखा जाए तो भारत एक बहुत जटिल देश है। इसलिए राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया में मिलकर कार्य करना समाज का सामूहिक दायित्व है।
myantharathma.org‘. ने 9 सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों का चयन किया है, जिनकी मदद से राष्ट्र निर्माण किया जा सकता है। राष्ट्र निर्माण के लिए नीति निर्माताओं को एक खास विजन पर आधारित नजरिए को अपनाने की जरूरत है। इसके अलावा विभिन्न आर्थिक और सामाजिक मोर्चों पर देश में लोकतंत्र के अन्य स्तंभों को कार्य करना चाहिए। हालांकि कुछ क्षेत्रों के लिए नीतियां और नियम बनाए गए हैं, लेकिन वह काफी पुराने पड़ चुके हैं और अब उन पर अमल नहीं किया जा सकता। इसलिए म्यानथारात्मा समान और सकारात्मक विचारधारा वाले लोगों को एक ऐसा मंच प्रदान करना चाहता है, जहां वह राष्ट्र को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर विचार-विमर्श कर सकें और उनकी आवाज नीति निर्माताओं तक पहुंच सकें।
इस प्लेटफॉर्म पर होने वाले संवाद का 9 सूत्रीय एजेंडा कृषि क्षेत्र, बैंक और फाइनेंस, शिक्षा, ऑटोमोबाइल, फार्मा-स्वास्थ्य-अस्पताल, निर्माण और कारोबार, सामाजिक मुद्दे, सिस्टम प्रोसेस, पारदर्शिता के साथ सुशासन, अंतरराष्ट्रीय संबंध और देशभक्ति है। इस प्लेटफॉर्म पर विचार-विमर्श की प्रक्रिया में शामिल लोग इसमें से किसी भी मुद्दे पर विचार-विमर्श शुरू कर सकते हैं और एक वास्तविक नतीजे पर पहुंच सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *