भारत में आधे से ज्यादा गर्भवती महिलाएं बिना किसी प्रशिक्षित चिकित्सा सहायता के प्रसव करती हैं

-डॉ. रीता बख्शी
(स्त्रीरोग विशेषज्ञ व चेयरपर्सन इंटरनेशनल फर्टिलिटी सेंटर)

सरकार और निजी संसथा की ओर से हाल के दिनों में की गई कई पहलों के बावजूद, भारत में मातृ मृत्यु अनुपात (मैटरनल मोर्टेलिटी रेश्यो) अभी तक अस्वीकार्य रूप से ज्यादा है। हाल के अनुमानों से पता चलता है कि हमारे देश में हर बारह मिनट में कम से कम एक मा की मृत्यु होती है। शहरों की तुलना में, देश के ग्रामीण इलाको, उपनगरों और दूरदराज के गांवों में मातृ मृत्यु का बोझ काफी अधिक है, जिसमें इंस्टीटूशनल प्रसव या प्रसव देखभाल कई मामलों में एक दूर की वास्तविकता प्रतीत होती है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि भारत में सभी गर्भवती महिलाओं में से आधे से ज्यादा बिना किसी प्रशिक्षित चिकित्सा सहायता के प्रसव करती हैं।
संस्थागत (इंस्टीटूशनल) प्रसव पर जोर देते हुए, स्थिति को सुधारने के लिए अन्य महत्वपूर्ण चीजे है परिवार नियोजन और गर्भनिरोधक के सुरक्षित तरीकों पर ध्यान केंद्रित करना, प्रसव पूर्व देखभाल और परामर्श, प्रसवोत्तर देखभाल, पर्याप्त मातृत्व शिक्षा। प्रसूति और अन्य चिकित्सा आपात स्थितियों जैसे कि अत्यधिक रक्तस्राव, संक्रमण या सेप्सिस, रक्तस्राव, बाधित लेबर, के लिए पर्याप्त मेडिकल परिसेवा हर जगह होना भी जरूरी है।
भारत में हर साल 11 अप्रैल को राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस मनाया जाता है, जिसका उद्देश्य गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं की भलाई के प्रमुख विषयों पर जागरूकता बढ़ाना है, जैसे कि गर्भावस्था, प्रसव, प्रसव के बाद की सेवाओं आदि। इस वर्ष भी राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न गतिविधियों और पहलों के साथ दिवस मनाया और मनाया जा रहा है।
यह महिलाओं के स्वास्थ्य (विशेषकर गर्भावस्था और प्रसव के दौरान) के बारे में जानकारी तक पहुंच बढ़ाने के हमारे प्रयासों को बढ़ाने और अनचाहे गर्भधारण के साथ-साथ असुरक्षित गर्भपात को रोकने के लिए उचित समय है।

सुरक्षित और स्वस्थ गर्भावस्था के लिए सुझाव
1. गर्भवती महिलाओं को, सबसे पहला और सबसे महत्वपूर्ण, धूम्रपान, शराब पीना, किसी भी प्रकार की मनोरंजक दवाओं का सेवन करना, साथ ही साथ दैनिक आधार पर भारी शारीरिक श्रम वाली गतिविधियों से दूर रहना चाहिए।
2. दिन भर में कई मिनी भोजन करना गर्भवती महिलाओं के लिए एक अच्छा विचार है। अधपके या गहरे तले हुए भोजन, बिना पचे डेयरी उत्पाद, कच्चा समुद्री भोजन (उच्च पारा सामग्री के साथ), और कैफीन से दूर रहना सबसे अच्छा है।
3. लौह और फोलिक एसिड युक्त प्रसव पूर्व विटामिन की खुराक आरंभ करें।
4. गर्भवती महिलाओं को हर दिन कम से कम 20-30 मिनट के लिए हल्के से मध्यम व्यायाम का अभ्यास करना चाहिए। हालांकि, व्यायाम करते समय पेट पर बहुत अधिक तनाव न डालें। पर्याप्त आराम करना भी उतना ही महत्वपूर्ण है।
5. अपने रक्तचाप को जांच में रखने के लिए दिन में दो बार सांस लेने के व्यायाम का अभ्यास करें। आप प्रसव-पूर्व योग, ध्यान और अन्य विश्राम तकनीकों के साथ तनाव से राहत पा सकते हैं।
6. पहले सात महीनों के लिए मासिक अपॉइंटमेंट बुक करें। इसके बाद, अपने डॉक्टर के साथ साप्ताहिक या द्वैमासिक अपॉइंटमेंट करें। सवाल पूछने में संकोच न करें ताकि गर्भावस्था सुचारू रूप से आगे बढ़ सके।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *