एकेजी ओविहेम्स मेडिकल सेंटर, पीतमपुरा में चैरिटेबल होम्योपैथिक ओपीडी का उद्घाटन

नई दिल्ली। एकेजी ओविहेम्स मेडिकल सेंटर, पीतमपुरा में एक निःशुल्क रक्त शर्करा जांच शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें भारी संख्या में लोगों ने भाग लिया। सेंटर के संस्थापक डॉ. ए. के. गुप्ता ने इस अवसर पर कहा कि वर्तमान युग में मधुमेह के रोगी तेजी से बढ़ रहे हैं, क्योंकि आज की दोषपूर्ण और गतिहीन जीवन शैली मधुमेह के लिए एक अग्रदूत साबित हो रही है और उम्र के हर क्षेत्र के मरीज मधुमेह से प्रभावित हो रहे हैं। इस अवसर पर चैरिटेबल होम्योपैथिक ओपीडी का भी उद्घाटन किया गया।
एकेजी ओविहेम्स (ओम विद्या इंस्टीट्यूट ऑफ होमियोपैथी एवं एलाइड मेडिकल साइंसेज) ने अब तक ऐसे 200 से अधिक शिविरों का आयोजन किया है। इस अवसर पर श्री के जी सुरेश, महानिदेशक, भारतीय जन संचार संस्थान (आईआईएमसी) तथा पद्मश्री प्रो डॉ. वी. के. गुप्ता, पूर्व प्रिंसीपल, नेहरू होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज (एनएचएमसी) विशेष मेहमान थे।
एकेजी ओविहेम्स रोगियों की भलाई के लिए इंटीग्रेटेड मेडिकल सिस्टम पर भरोसा करता है। डॉ. ए.के. गुप्ता का कहना है कि हर प्रणाली की अपनी अपनी विशेषताएं हैं, लेकिन हर प्रणाली की अपनी सीमाएं भी हैं। इस चिकित्सा प्रणाली को लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में भी मान्यता मिली है।
ओविहेम्स अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध होम्योपैथिक सलाहकार डॉ. ए.के. गुप्ता की दिमागी उपज है। इसका उद्घाटन 8 अगस्त 1999 को तत्कालीन महिला एवं बाल कल्याण मंत्री श्री कृष्णा तीर्थ ने किया था। बहुत ही कम अवधि में संस्थान ने लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाई है। ओविहेम्स वक्त की जरूरत है, क्योंकि यह रोगियों को एक ही जगह पर संपूर्ण चिकित्सा सेवाएं मुहैया कराता है। ओविहेम्स मेडिकल सेंटर में एक समग्र दृष्टिकोण के साथ रोगी का कल्याण एकमात्र उद्देश्य है।
अपनी सेवा एवं कार्यों से पिछले 18 सालों में इस सेंटर ने अपनी खास जगह बनायी है और यह केंद्र दिल्ली में सर्वश्रेष्ठ होम्योपैथिक केंद्र होने के नाते 2013 में प्रतिष्ठित ग्लोबल हेल्थकेयर एक्सीलेंस अवार्ड जीत चुका है। विशेष अतिथि श्री के जी सुरेश महानिदेशक, आईआईएमसी तथा पद्मश्री प्रो. डॉ. वी के गुप्ता, पूर्व प्रिंसीपल, नेहरू होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज, ने डॉ. गुप्ता और होमियोपैथी के बारे में अपने अनुभव सांझा किये। डॉ. गुप्ता ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि जीवन में बढ़ते तनाव और चिंता से राहत के लिए यहां मनोवैज्ञानिक कार्तिक गुप्ता उपलब्ध रहेंगे। धर्मार्थ होम्योपैथिक ओपीडी के अलावा लैब की जांच भी उचित शुल्क में की जाएगी। मेडिकल साइंस और होमियोपैथी में बहुत प्रगति हो रही है। उन्होंने जोर देकर कहा कि होम्योपैथी स्वास्थ्य की सुरक्षा को सुनिश्चित करती है।
सेंटर में मनोवैज्ञानिक आकलन, मनोचिकित्सा, होम्योपैथिक उपचार आदि की सेवाएं दी जाएंगी। यहां विशेष जांच के लिए लैब संग्रह केंद्र भी स्थापित किया गया है। हर उम्र के पुरुष, महिला और बच्चों के समस्त गंभीर रोगों के लिए परामर्श किया जा सकता है। त्वचा, ल्यूकोडर्मा, मुँहासे, एलर्जी, एक्जिमा, सोरायसिस, एपिडर्मोलिसिस बुलोसा, साइनस, मधुमेह, रक्तचाप, स्टोन, गैस्ट्रिक विकार, मोटापा, डिस्क, डिप्रेशन, नपुंसकता, यौन विकार, महिलाओं की समस्याएं, हार्मोनल असंतुलन, न्यूरोलॉजिकल डिसीज, मोटर न्यूरॉन डिसीज (एमएनडी), जीवन शैली विकार आदि का यहां उचित इलाज होता है।
यह एक बीज की तरह है जिसे रोपा गया है डॉ. ए.के. गुप्ता के नेतृत्व में और अब यह नियमित विकास की प्रक्रिया में है। डॉ. संकेत गुप्ता, कार्तिक गुप्ता, डॉक्टरों की टीम, पैरामेडिकल स्टाफ और समाज के सदस्यों व शुभचिंतकों के परिश्रम के चलते, पीड़ित रोगियों की भलाई के लिए एक एकीकृत दृष्टिकोण का सपना अब एक वास्तविकता बन गया है। एकेजी ओविहेम्स की उड़ान शुरू हो रही है और तेजी से बढ़ रही है। इसकी यात्रा हेल्थ फॉर ऑल के मिशन के साथ आगे बढ़ रही है।

One thought on “एकेजी ओविहेम्स मेडिकल सेंटर, पीतमपुरा में चैरिटेबल होम्योपैथिक ओपीडी का उद्घाटन

  • October 26, 2017 at 7:21 pm
    Permalink

    Dr AK Gupta is a dynamic medical practitioner who has devoted his life for the welfare of the suffering humanity and undoubtedly this Centre shall also prove to be a roaring success like the previous ones

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *