इंडिया के सोलर मैन” ने सोलर वर्ल्ड में लगातार बढ़ाया भारत का दबदबा और धमक

नई दिल्ली। सौर ऊर्जा के क्षेत्र में दूरदर्शी नेता, नेशनल सोलर एनर्जी फेडरेशन ऑफ इंडिया के चेयरमैन श्री प्रणव आर. मेहता ने वॉशिंगटन डीसी में स्थित ग्लोबल सोलर काउंसिल (जीएसएसी) में 1 जनवरी 2019 से अध्यक्ष पद का कार्यभार संभाल लिया है।
ग्लोबल सोलर काउंसिल की लॉन्चिंग सौर ऊर्जा का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करने वाले 30 से ज्यादा देशों के अंतरराष्ट्रीय गठबंधन में पेरिस में जलवायु परिवर्तन समझौते के दायरे में 6 दिसंबर 2015 को ऐतिहासिक संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (यूएन सीओपी 21) के दौरान की गई। इन देशों में चीन, अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस, इटली, स्पेन ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका, मध्यपूर्व, इस्राइल, ब्राजील, मैक्सिको, ताइवान, मलेशिया समेत ज्यादा से ज्यादा देशों की सोलर असोसिएशन शामिल है। इसके अलावा विशाल, लघु और मध्यम श्रेणी की कंपनियां ग्लोबल सोलर असोसिएशन में शामिल हो रही है। जीएससी ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन के प्रति प्राइवेट और एनजीओ सेक्टर की ओर से की गई पहल की प्रतिक्रिया है।
ग्लोबल सोलर काउंसिल राष्ट्रीय और क्षेत्रीय सौर संघों और निगमों का अंतररराष्ट्रीय गठबंधन है, जो स्थापित और उभरते हुए मार्केट में निजी क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करती है, जिसमें अपने देश में सौर ऊर्जा का अधिक से अधिक मात्रा में उपयोग कर रहे 30 से ज्यादा देशों के विश्व के सबसे बड़े मार्केट शामिल हैं। ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए निजी क्षेत्र की प्रतिक्रिया के तौर पर पेरिस में 6 दिसंबर 2015 में यूएन कॉप सीओपी 21के दौरान पेरिस जलवायु वार्ता के दौरान ग्लोबल सोलर काउंसिल को लॉन्च किया गया था। इसका उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय सरकारी निकायों जैसे आईएसए, आईआरईएनए, आरईएन 21, क्लीन एनर्जी मिनिस्ट्रियल के करीबी और नजदीकी सहयोग से विश्व में सौर ऊर्जा के विकास को बढ़ावा देना, इसका विस्तार करना और सोलर पैनल की स्थापना करना था। जून 2018 में जीएससी ने इंटर सोलर म्यूनिख के दौरान म्यूनिख में आईएसए के साथ सहयोग का समझौता किया। जीईसी ने आईएसए के साथ मिलकर कई गतिविधियों का संचालन किया है, जिसमें कृषि क्षेत्र में इस्तेमाल होने वाले सोलर पंपों के निर्माण, सोलर क्षेत्र में क्षमता निर्माण और सौर ऊर्जा का विभिन्न क्षेत्रों में उपयोग बढ़ाना शामिल है। जीएससी का आईआरईएनए के साथ भी इसी तरह का समझौता है। जीएससी सौर ऊर्जा बढ़ाने के क्षेत्र में कारर्वाई के लिए आईआरईएनए के गठबंधन का महत्वपूर्ण हिस्सा है।
प्रणव आर. मेहता को ग्लोबल सोलर एनर्जी के विचारक नेता के तौर पर उच्च सम्मान प्राप्त है। उन्होंने शुरुआत से ही जीएससी के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष होने के नाते अग्रिम मोर्चे पर रहकर जीएससी में गतिविधियों का प्रतिनिधित्व किया। सोलर वर्ल्ड में भारत का बढ़ता दबदबे को इस तथ्य से देखा जा सकता है कि सौर ऊर्जा के क्षेत्र में भारत के उल्लेखनीय विकास में अपने विजन और अनुभव को साझा करने के लिए दुनिया के 15 से ज्यादा देशों की ओर से आमंत्रित किया गया है।
यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि प्रणव मेहता को चीन, अमेरिका, जर्मनी, स्पेन, इटली, अफ्रीका, ब्राजील, मैक्सिको, अरब वर्ल्ड, अर्जेंटीना, आईएए, आईआरईएनए कोलिएशन फॉर एक्शन और सोलर कॉरपोरेट वर्ल्ड की ओर से समान रूप से प्यार, स्नेह और सम्मान हासिल है। प्रणव मेहता ने 2006 में सौर ऊर्जा के क्षेत्र में अपना सफर किया था, जब भारत की सौर ऊर्जा उत्पादन की जीरो मेगावॉट की क्षमता थी। उन्हें सौर ऊर्जा के क्षेत्र में राय बनाने, उस पर विशेष जोर देने और सोलर एनर्जी के प्रति जागरूकता फैलाने में महत्वपूर्ण और उत्प्रेरक भूमिका निभाने का श्रेय हासिल है। उन्होंने सोलर एनर्जी के सभी भागीदारों के प्रयासों को एकीकृत किया है, जिसमें सरकारी और निजी क्षेत्र के साथ बुद्धिजीवी भी शामिल है।
उन्होंने भारत को सौर ऊर्जा का अधिकाधिक उपयोग करने वाले टॉप 5 देशों में शामिल कराया है। भारत अब तीसरा सबसे बड़ा सोलर मार्केट है। यह एक असाधारण उपलब्धि है, लेकिन अत्यधिक विनम्र और लो प्राफाइल रहने वाले प्रणव आर. मेहता इसका क्रेडिट राजनैतिक इच्छाशक्ति और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व को देते हैं। इसी के साथ वह सोलर इंडस्ट्री के दिग्गजों और सरकार समेत सभी भागीदारों को भी इसका श्रेय देते हैं। प्रणव कहते हैं, भारत का प्रभावशाली विकास प्रधानमंत्री और उनकी सक्षम नीतियों, सक्रिय ब्यूरोक्रेसी की भूमिका को देते हैं। पूंजी निवेश, तकनीक के विकास,रोजगार सृजन, कौशल विकास, नए-नए स्त्रोतों से वित्त पोषण और सौर ऊर्जा की लागत कम करने के क्षेत्र में सोलर इंडस्ट्री के दिग्गजों के योगदान को हम भूल नहीं सकते।
प्रणव आर. मेहता को अगले हफ्ते अबू धाबी में “सोलर विजनरी और इनफ्लूएंसर अवॉर्ड“ से सम्मानित किया जाएगा।
सोलर क्षेत्र में भारत का परचम बुलंद रखने वाले प्रणव आर. मेहता को विश्व को उल्लेखनीय योगदान देने के क्षेत्र में सोलर फ्यूचर डे की ओर से सोलर विजनरी और इन्फ्लूएंसर अवॉर्ड से सम्मानित किया जाएगा। अबू धाबी में वर्ल्ड फ्यूचर एनर्जी समिट के दौरान 15 जनवरी 2019 को उन्हें यह पुरस्कार दिया जाएगा। प्रणव मेहता सौर ऊर्जा और पर्यावरण के क्षेत्र में जाना-पहचाना नाम है। उनका अपने सपनों को पूरा करने में अटूट विश्वास है। वह सौर ऊर्जा क्षेत्र के लगातार विकास के लिए जानी-पहचानी दृढ़ता, उत्साह, मेहनत और लगन से काम कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *