एक्सप्रेस डिस्ट्रिब्यूशन क्षेत्र के लीडर ने 31 मार्च 2018 को खत्म हुए क्वार्टर/साल के लिए ऑडिटेड रिजल्ट्स प्रस्तुत किए

नई दिल्ली। टीसीआई एक्सप्रेस (एनएसई : TCIEXP और बीएसई : 540212), टाइम-डेफिनेट एक्सप्रेस डिस्ट्रिब्यूशन का स्पेशलिस्ट और लीडर है। कंपनी ने आज बोर्ड बैठक के बाद 31 मार्च 2018 को खत्म हुए क्यू4 और 12 महीनों के वित्तीय नतीजों की घोषणा की। कंपनी ने वित्त वर्ष 2017-18 में सतत् वृद्धि दर्ज की है। क्यू4 के नंबर भी बेहतरीन रहे, जो बताते हैं कि टीसीआईएक्सप्रेस के लिए यह साल बहुत सफल रहा है।
कंपनी के नेट रेवेन्यू में क्यू4 में 23.18% की मजबूत वृद्धि दर्ज हुई, जो बढ़कर 294.94 करोड़ रुपए हो गया, जबकि इबीआईटीडीए 29.01 करोड़ रुपए रहा, जो पिछले साल के मुकाबले 52.44% ज्यादा रहा। राजस्व में बढ़ोतरी की तुलना यदि पिछले साल की समान तिमाही से की जाए तो राजस्व ने कंपनी के पीएटी को तिमाही में 49.42% से बढ़ा दिया है। क्यू4 के प्रभावी राजस्व और वृद्धि के आंकड़े कंपनी के मजबूत बुनियाद का प्रतिबिम्ब है, जो वार्षिक नंबरों में भी दिखाई देते हैं। वित्त वर्ष 2017-18 के लिए नेट रेवेन्यू 18.03% बढ़कर 887.16 करोड़ रुपए हो गया, जबकि वर्ष 2017-18 के लिए ईबीआईटीडीए 92.73 करोड़ रुपए रहा, जो पिछले साल के मुकाबले 46.56% ज्यादा रहा। पीएटी में भी वित्त वर्ष 2016-17 के मुकाबले वित्त वर्ष 2017-18 में 58.40 करोड़ रुपए की उछाल रहा, जो वित्त वर्ष 2016-17 के मुकाबले 55.76% वृद्धि दिखाता है।
कंपनी के बेहतरीन आंकड़े उसके विस्तृत ब्रांच नेटवर्क की वजह से है, जो देशभर में 650 केंद्रों के साथ बढ़ता जा रहा है। हब और स्पोक नेटवर्क भी तेजी से बढ़ रहा है। कैटेगरी लीडर होने के नाते यह भारत में फास्टेस्ट एक्सप्रेस सर्विस है। इसकी वजह से वह कस्टमर का भरोसा जीत पाया है।
इस स्थायी विकास के आधार पर कंपनी ने @25% (0.50 रुपए प्रति इक्विटी शेयर जिसका अंकित मूल्य 2 रुपए प्रति शेयर है) का लाभांश देने का फैसला किया है। इस साल के अंतरिम लाभांशों को मिलाकर कुल लाभांश 2 रुपए अंकित मूल्य वाले शेयर पर @125% (2.50 रुपए प्रति इक्विटी शेयर) रहा।
रिजल्ट्स पर टिप्पणी करते हुए टीसीआई एक्सप्रेस के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री चंदर अग्रवाल ने कहा, “जीएसटी को लेकर मार्केट ज्यादा सहज हो गया है। ट्रांसफार्मेटिव रेगुलेटरी रेजिम की संभावनाओं का लाभ उठाने के लिए कई महत्वपूर्ण क्लाइंट्स ने हमें परफेक्ट पार्टनर के तौर पर पाया है। यह सेक्टर असंगठित होने की वजह से अनियंत्रित रहा है, लेकिन अब सारे इंडिकेटर्स बुलिश हैं। तेजी की ओर इशारा कर रहे हैं। हमारी बेस्ट-इन क्लास सर्विसेस ने हमें हमारे कस्टमर को सीमलेस सर्विस एक्सपीरियंस देने की क्षमता दी है, जो अतुलनीय है। हमें अपने नतीजों से खुशी है कि हमने भारत की तरक्की की कहानी में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है। साथ ही अपने ग्राहकों और अंशधारकों को बेहतर प्रतिफल दिए हैं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *