बैंकिट 1 साल में खोलेगा 10,000 बैंकिंग सर्विस आउटलेट्स

नई दिल्ली। भारत सरकार के डिजिटल इंडिया अभियान को आगे बढ़ाते हुए ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों को डिजिटल इंडिया मुहिम से जोड़कर लोगो मे उद्यमशीलता की गति को बढ़ावा देने और डिजिटल लेनदेन की सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से फिन-टेक स्टार्टअप बैंकिट ने आधिकारिक तौर पर छोटे शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों में 10,000 बैंकिंग आउटलेट खोलने की घोषणा की है। इन बैंकिंग आउटलेट को खोलने का लक्ष्य वित्तीय वर्ष 2018-19 निर्धारित किया गया है। ये सभी आउटलेट्स जनसख्या वाहुल्य इलाकों मे खोले जायेंगे जहाँ छोटे तबके के श्रमिक लोग रहते है और जो अभी तक बैंकिंग तथा अन्य मूलभूत सुविधायों से मरहूम है।
कंपनी द्वारा पहले ही भारत के 22 राज्यों में 6,000 से अधिक परिचालित बैंकिंग आउटलेट स्थापित किये जा चुके हैं। बैंकिट अपने बिजनेस टू बिजनेस चैनल के माध्यम से, जिन लोगो की पास बैंकिंग की सुविधाएँ नहीं हैं या फिर किसी भी कारणवश वह बैंकिंग की सुविधाओं को प्राप्त नहीं कर पा रहें हैं, ऐसे में उन सभी लोगो को उनके निकटतम सभी प्रकार की बैंकिग सुविधाएँ प्रदान कराती है। वित्तीय लेनदेन का यह एक बेहद ही सरल और सुरक्षित माध्यम है, जो की आप अपने डेस्कटॉप, लैपटॉप, स्मार्ट फोन या टेबलेट के जरिए भी पूर्ण कर सकते हैं।
बैंकिट के माध्यम से किसी भी समय, किसी भी बैंक में पैसे ट्रांसफर करने की सुविधाओं का एक उन्नत तरीका प्रदान करता है। यहां तक की रविवार ही नहीं किसी अन्य छुट्टी के दिन भी बैंकिट द्वारा सरल, सुरक्षित माध्यम से पैसो का लेनदेन किया जा सकता है। बैंकिट एक आधुनिक तकनीक आधारित कंपनी है, जो प्रमुख बैंकों के लिए आईएमपीएस स्विचेस, मोबाइल एप्लिकेशन और अन्य भुगतान समाधान विकसित करती है। पैसे के लेनदेन के अलावा बैंकिट के माध्यम से आप सरकारी कागजात जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड, पासपोर्ट तथा अन्य डॉक्यूमेंट बनाना, फोन, डिश टीवी व् अन्य रिचार्ज करना, टिकट बुकिंग तथा अन्य वाणिज्यिक गतिविधियों को किया जाता है ताकि लोगो को इन सुविधायों के लिए दूर-दराज के इलाकों तक न भटकना पड़े। इसके साथ ही बैंकिट ग्रामीणों को मूल प्रशिक्षण प्रदान करता है और प्रत्येक व्यक्ति को सशक्त और स्वावलंभी बनाने की दिशा मे अहम् योगदान देने मे सक्रिय है।
बैंकिट के निदेशक एवं सीओओ अमित निगम का कहना है की, ‘हमारा विश्वास है की एक समृद्ध राष्ट्र के लिए गाँवों को सशक्त बनाना अत्यंत आवश्यक है। हम एक नए भारत के बिकास में अग्रणी बनना चाहते हैं, जहां पर सभी लोगो को बैंकिंग जैसे बुनियादी सुविधाओं के लिए परेशानियों का सामना न करना पड़े। भारत के सबसे बड़े और विश्वसनीय भुगतान समाधान कंपनी बनने के दृष्टिकोण से हम पूरे देश में 10,000 से अधिक ऐसे डिजिटल बैंकिट स्टोर खोलने के लिए काम कर रहे हैं। हमारा लक्ष्य ग्रामीण और शहरीकृत पिछड़े इलाकों एवं देश मे मिलने वाली सभी जरूरती प्रक्रियाओं के डिजिटलीकरण में सरकार को पूरा समर्थन देना है। 2018-2019 के दौरान हम भारतीय गांवों को ‘डिजिटल गांवों’ में बदलने के लिए प्रतिबद्ध हैं। डिजिटल वॉलेट, इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल-संचालित पॉइंट ऑफ सेल (पीओएस) और कई अन्य तरीकों से हम नगदी रहित लेनदेन कर सकते हैं।
उन्होंने आगे कहा की ‘भारत सरकार फिनटेक स्टार्ट-अप को समर्थन देने में बहुत उत्साही और सक्रिय है और सरकार ने हाल ही मे एक विशेष समिति का गठन कर अपनी प्रतिबद्धता दिखायी है। इससे ने केवल हम जैसी कंपनियों को समाज के अंतिम व्यक्ति तक सुविधायें पहुँचाने मे मदद मिलेगी बल्कि हम देश में उद्यमशीलता के अवसर बढ़ाने और बनाने के लिए और भी मजबूती से काम करेंगे। हमारा लक्ष्य ग्रामीण भारत के डिजिटलीकरण के लिए सरकार की हर संभव मदद करके ग्रामीण अर्थव्यवस्था को और मजबूत करना है’।
पिछले कुछ वर्षों में बैंकिंग प्रणाली की सुविधायों को लोगो तक पहुंचाने में काफी सुधर आया है, जिससे की सरकार के अन्य रूढ़िवादी क्षेत्रों में प्रौद्योगिकियों को एकीकृत करने के प्रयासों के साथ-साथ देश भर में बिना बैंक और गैर-मेट्रो क्षेत्रों में विस्तार की सुविधा प्रदान करता है। इसके अलावा बैंकिट गैर बैंकिंग क्षेत्रों में लोगो तक बैंकिंग सुविधाओं को पहुंचने के कार्य में अधिक सुधार करने का इरादा रखता है। बैंकिट अपनी सीएसआर पहल ‘उन्नति का साथी’ के तहत समाज के गरीब और वंचित वर्गों के सशक्तिकरण के लिए काम कर रहा है और इन लोगों के रोजगार दिलाने और उन्हें एंट्रेप्रेनुएर बनाने का काम कर रहा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *