कारोबार खोलने में जल्दबाजी के हिमायती नहीं : बिल गेट्स

वाशिंगटन। दुनिया के सब से धनी और माइक्रोसाफट के संस्थापक बिल गेट्स ने कहा है कि वह कारोबार खोलने में जल्दबाजी के हिमायती नहीं हैं। उनका यह भी कथन है कि स्कूलों को खोलने में भी जल्दबाजी उचित नहीं है। उन्होंने दुनिया भर के नेताओं का आह्वान किया है कि वे नए संक्रामक से निपटने के लिए एक जुट हों और अपने-अपने देशों की सुरक्षा व्यवस्था मजबूत करें। उन्होंने कहा कि वह पिछले पाँच सालों से लगातार यह कहते आ रहे हैं कि अब उनका मुकाबला हथियारों से युद्ध से नहीं, महामारी से होगा । इसके लिए वैक्सीन की तैयारी होनी चाहिए। बिल गेट्स खुद भी कोरोना महामारी के लिए वैक्सीन तैयार करने में जुटे हैं और अरबों रूपए खर्च कर रहे हैं। वाल स्ट्रीट जर्नल से एक सीधी वार्ता में 64 वर्षीय बिल गेट्स ने कहा कि असल में उन्हें महामारी से बचाव के लिए बार-बार लोगों को आगाह किए जाने की जरूरत थी। उनका कहना था कि निश्चित तौर पर कोरोना कहर भयावह है। बिल गेट्स खुद कोरोना वैक्सीन के लिए अरबों रूपए निवेश कर चुके हैं। इस भयानक संक्रामक बीमारी से दो लाख 83 हजार से अधिक लाओग जानें गंवा चुके हैं और विश्व अर्थ व्यवस्था चोराहे पर आ खड़ी हुई है। बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने विगत में इबोला, जाईका पर अरबों रूपए हरच चुके हैं, जबकि कोरोना वैक्सीन पर 30 करोड़ 50 लाख डालर व्यय कर रहे हैं। बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन शोध शास्त्रियों को उचित खर्चे ही नहीं देते, बल्कि इनके उपचार और वैक्सीन के निमान पर भी भारी खर्च कर रहे हैं। उन्होंने अभी से इस वैक्सीन के निर्माण के लिए उपयुक्त स्थान भी खोज कर रख लिया है। उनका कथन है कि कोरोना के लिए करीब सात अरब वैक्सीन की डोज की जरूरत पड़ सकती है। विदित हो, कोरोना वैक्सीन के निर्माण में जुटी कुछ फार्मा कंपनियों और शोध शास्त्री बिल गेट्स को बाधक मैन कर चल रहे हैं।वे बिल गेट्स को स्वयंभू वैक्सीन निर्माता मान कर चल रहे हैं। इस पर बिल गेट्स ने अपने प्रतिद्वंद्वियों को जवाब दिया है कि वह वैक्सीन के निर्माण में धन लगा रहे हैं, अपना मत दे रहे हैं, लेकिन अंतिम फैसला तो वैज्ञानिकों को ही करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *