एसआरएम अमरावती ने जुलाई 2018 सत्र के लिए (एसएलएबीएस) में दाखिले की घोषणा की

एसआरएम यूनिवर्सिटी, एपी अमरावती स्कूल ऑफ लिबरल आर्ट्स एंड बेसिक साइंसेज (एसएलएबीएस) में दाखिले के लिए आवेदन आमंत्रित करता है। जुलाई 2018 से शुरू होने वाले पाठ्यक्रमों के लिए बीए, बीएससी, बीबीए और बीकॉम में 240 से ऊपर छात्रों का नामांकन किए जाने की संभावना है। दाखिले के लिए आवेदन एसआरएम एपी अमरावती के एडमिशन पोर्टल www.srmap.edu.in पर ऑनलाइन जमा किए जाने हैं।
एसआरएम यूनिवर्सिटी, एपी अमरावती की स्थापना 2017 में हुई थी और इसकी इच्छा विश्व स्तर के एक ऐसे विश्वविद्यालय के रूप में उभरने की है जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कनेक्टेड, राष्ट्रीय स्तर पर प्रासंगिक और क्षेत्रीय स्तर पर बदलाव लाने वाला हो। फैकल्टी के रूप में विश्वविद्यालय ने दुनिया भर से सर्वोच्च स्तर की प्रतिभा आकर्षित की है ताकि युवा मस्तिष्क को कल का अग्रणी नागरिक होने के लिए तैयार किया जा सके।
एसआरएम यूनिवर्सिटी, अमरावती का स्कूल ऑफ लिबरल आर्ट्स एंड बेसिक साइंसेज (एसएलएबीएस) 12 विषयों में बीए, बीबीए, बीकॉम और बीएससी प्रोग्राम की पेशकश करता है। ये हैंरू कामर्स, इकनोमिक्स, इंग्लीश स्टडीज, हिस्ट्री, जर्नलिज्म, साइकोलॉजी, बिजनेस स्टडीज, बायोलॉजी, केमिस्ट्री, कंप्यूटर साइंस, गणित और फिजिक्स।
एसआरएम यूनिवर्सिटी, एपी अमरावती के डायरेक्टर एडमिशंस, श्री रुपेश बिष्ट कहते हैं, “फोकस इस बात पर होगा कि बहुआयामी विचार प्रक्रिया का विकास किया जाए जो छात्रों को वास्तविक विश्व में सामने आने वाले मुश्किल मुद्दों और चुनौतियों से निपटने में सहायता करे। सभी छात्र भिन्न विषयों में 6 फाउंडेशन कोर्स लेंगे ताकि उन्हें सीखने की मनःस्थिति और एक विश्व नजरिया का विकास करने में सहायता मिले। हम उम्मीद करते हैं कि आखिरकार युवा छात्रों को उद्योग के लिए तैयार एक पेशेवर के रूप में विकसित कर पाएंगे।”
एसएलएबीएस में जो पाठ्यक्रम पेश किए जा रहे हैं उससे छात्र भिन्न विषयों को महसूस कर सकते हैं। छात्रों के पास यह विकल्प रहता है कि वे विभागीय या जनरल इलेक्टिव्ज में से चुनाव करें और अपनी दिलचस्पी के अनुसार सीखने का एक अनूठा अनुभव हासिल करें। तीन साल की पाठ्यक्रम अवधि के लिए छात्र माइनर्स का भी विकल्प चुन सकते हैं और इस तरह दो भिन्न क्षेत्रों (मेजर और माइनर) में सुविज्ञता स्थापित कर सकते हैं।
पाठ्यक्रम सीखने वालों को यह विकल्प भी मुहैया कराता है कि वे अपने चुने हुए क्षेत्र में डिपलोमा हासिल कर सकें। इसके लिए उन्हें एसएलएबीएस में एक अतिरिक्त वर्ष गुजारना होता है। इस अतिरिक्त वर्ष से उनका ज्ञान समृद्ध होता है और आगे की पढ़ाई के लिए दुनिया भर के अग्रणी विश्वविद्यालयों में दाखिले के लिए दरवाजा खुलता है।
एसएलएबीएस में छात्रों की संभावनाओं के संबंध में निर्णय करने के लिए शैक्षिक प्रदर्शन एकमात्र शर्त नहीं होती है। बोर्ड की परीक्षा में प्राप्त अंक के अलावा एसआरएम के एक्सपर्ट कौनसेलर प्रत्येक उम्मीदवार की संभवाना को समझने के लिए उनके साथ विस्तृत चर्चा करते हैं। इसके बाद ही उन्हें दाखिले की पेशकश की जाती है।
आवेदकों के लिए दो दाखिला चक्र है :
चक्र 1 (शुरुआती प्रवेश पेशकश) : आवेदन की अंतिम तिथि – 20 अप्रैल 2018.
कौनसेलिंग टाइमलाइन – 25 अप्रैल से 10 मई
यह उन छात्रों के लिए है जो कक्षा 10 में 80 प्रतिषत से ज्यादा अंक प्राप्त कर चुके हैं और इस समय कक्षा 12 के नतीजों का इंतजार कर रहे हैं। चुने हुए छात्रों को पीएएल (अंतरिम प्रवेश पत्र) दिया जाएगा दाखिले की पुष्टि कक्षा 12 के प्रदर्शन पर होगी। एक प्रतीक्षा सूची की भी घोषणा की जाएगी।
चक्र 2 : आवेदन की अंतिम तिथि – 15 जून 2018.
कौनसेलिंग के लिए टाइमलाइन – 16 जून से 30 जून
कक्षा 12 की परीक्षा के आधार पर छात्रों को पीएएल (अंतरिम प्रवेश पत्र) दिए जाएंगे। ईईओ वेट लिस्ट क्लियर किए जाएंगे।
एसआरएम यूनिवर्सिटी, एपी अमरवती ने दुनिया भर के शिखर के विश्वविद्यालयों जैसे एमआईटी (मैसाच्यूसेट्स), इलिनोइस इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नालॉजी (शिकागो), यूसी बर्कले (कैलिफोर्निया), ईएफआरईआई (फ्रांस) के साथ रणनीतिक साझेदारी की है और इसका मकसद छात्रों को अंतरराष्ट्रीय स्तर का ज्ञान और कौशल मुहैया कराना है।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *