फिल्म समीक्षा

फिल्म का नाम : ‘‘बागी-2’’
फिल्म के निर्माता : साजिद नाडियाडवाला
फिल्म के निर्देशक : अहमद खान
फिल्म के कलाकार : टाइगर श्राॅफ, दिशा पटानी, प्रतीक बब्बर, मनोज वाजपेयी, रणदीप हुड्डा, दीपक डोबरियाल, दर्षन कुमार, जैकलीन फर्नांडिस (आइटम डांस)।
अवधी : 2 घंटा 17 मिनट
रेटिंग : 3/5

फिल्म ‘बागी 2’ सिनेमाघरों में आ चुकी है, यह फिल्म सन् 2016 में आई फिल्म ‘बागी’ का सिक्वल बताया जा रहा था। उसमें श्रद्धा कपूर लीड रोल में थीं और बागी-2 में दिशा पटानी लीड रोल में टाइगर के साथ हैं। फिल्म देखने के बाद पता चला कि नाम बागी-2 ज़रूर है लेकिन यह फिल्म पिछले साल आई फिल्म का सिक्वल बिल्कुल भी नहीं है क्योंकि दोनों फिल्मों की कहनी एक-दूसरे से जुड़ी हुई नहीं है। बस नाम एक-दूसरे जुड़ा है और फिल्म का हीरो दोनों फिल्मों में एक ही है।
फिल्म की कहानी के बारे में बात करें तो इसमें टाइगर श्रॉफ ने रणवीर प्रताप सिंह उर्फ रॉनी का किरदार निभाया है, वो फौजी है, जो कश्मीर में तैनात है। वह आतंकवादियों को हमेशा सबक सिखाता है, जिस वजह से उसे कई बार परेषानी झेलनी पड़ती है। एक दिन उसके पास उसकी पूर्व प्रेमिका नेहा (दिशा पटानी) का फोन आता है। जिस वजह से वह 4 साल बाद 7 दिन की छुट्टी लेकर गोवा जाता है नेहा से मिलने के लिए। नेहा बताती है कि उसकी बेटी का अपहरण हो गया है और कोई उसकी मदद नहीं कर रहा है। रॉनी पूरे जी जान से उसकी मदद करता है। इस दौरान उसका सामना गोवा पुलिस, डीआईजी (मनोज वाजपेयी), एसीपी लोहा सिंह धूल उर्फ एलएसडी (रणदीप हुड्डा), नेहा के पति शेखर (दर्शन कुमार), नेहा के देवर शनि (प्रतीक बब्बर), उस्मान (दीपक डोबरियाल) आदि से होता है। कहानी में सस्पेंस और थ्रिलर है, जो कहानी में जान डालते हैं।
फिल्म में ढेर सारा एक्शन डाला गया है। टाइगर श्राॅफ ने एक्शन सीन के लिए खूब सारी मेहनत भी की है, जो कि फिल्म में नज़र आता है। दिषा पटानी भी अच्छी लग रही हैं लेकिन फिल्म में सारा फोकस सिर्फ टाइगर श्राॅफ पर किया गया है। कहानी को दिलचस्प बनाने के लिए मनोज वाजपेयी और रणदीप हुड्डा का किरदार कुछ ज़्यादा ही ड्रामाटिक बनाया गया है। रणदीप हुड्डा को कम सीन के साथ हिप्पी के गेटअप में पेष किया गया है, इनके किरदारों की वजह से कहीं-कहीं आपको हल्की-फुल्की हंसी भी आएगी।
कश्मीर में एक पत्थरबाज को जीप से बांध कर घुमाने और पत्थरबाजी के खिलाफ एक सैनिक की पीड़ा को भी थोड़ा दिखाया गया है जिसे देखकर लगता है कि फिल्म को देषभक्ति से जोड़ा गया है। माधुरी का मषहूर डांस नंबर ‘एक दो तीन चार’ को नयेपन के साथ दिखाया गया है इस डांस नं. को जैक्लीन फर्नांडीज ने किया है।
कुल मिलाकर फिल्म में जज़्बात हैं, सस्पेंस है, थ्रिल है। कहानी कमज़ोर ज़रूर है लेकिन ढेर सारा एक्शन है जो ठूसा हुआ नहीं लगता।

फिल्म क्यों देखें ? : जैसा कि हमने पहले भी कहा है कि फिल्म में एक्शन बहुत ज्यादा है इसलिए जो भी एक्शन फिल्मों के दिवाने हों वो ज़रूर इसे देखकर आनंद उठा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *