‘मैं अपने बेटे का पालन-पोषण आर्ट ऑफ गिविंग यानी आर्ट ऑफ लिविंग के साथ अकेले कर रही हूं’: एकता कपूर

एकता कपूर महामारी के कारण उत्पन्न लॉकडाउन के इस समय के दौरान हम सभी के लिए प्रेरणा का प्रतीक रही हैं। हाल ही में, निर्माता एकता कपूर को गुरुदेव श्री श्री रविशंकर के साथ ‘heart to heart’ नामक शो में एक लाइव स्ट्रीम पर देखा गया था, जहाँ वे उनके साथ गहरी बातचीत करते हुए नजर आई थी।
एकता द्वारा गुरुदेव से पूछे गए सवाल ने सभी दर्शकों के दिलों को जीत लिया है। उन्होंने गुरुदेव से कहा “मैं एक सिंगल माँ हूँ। मेरा अपना एक बच्चा है। मेरा बेटा 15 महीने का है। मैं अपने बेटे का पालन-पोषण आर्ट ऑफ गिविंग यानी आर्ट ऑफ लिविंग के साथ अकेले कर रही हूं। लॉकडाउन खुलने के बाद मैं उसे आश्रम ले कर आऊंगी।’’
आगे बात करते हुए, निर्माता ने पूछ की ‘मैं आपसे पूछना चाहती हूं – मैं अक्सर खुद से यह पूछती हूं – क्या मैंने उससे पिता होने का हक छीना है? मेरे पास एक ही बच्चा था क्योंकि मुझे लगा कि मैं अपने बच्चे को माता-पिता दोनों का प्यार दे सकती हूं। लेकिन मुझे कभी-कभी बुरा लगता है। क्या ऐसा लगना सही है या गलत है?’
गुरुदेव ने एकता का समर्थन करते हुए कहा, ‘ना, आपको जरूरत नहीं है। एक महान ऋषि सत्यकाम के पिता नहीं थे। केवल उनकी मां जाबाला – एकल महिला ने उन्हें पाला है। और वह सबसे महान बन गए थे।’ आर्ट ऑफ लिविंग पेज से गुरुदेव श्री श्री रविशंकर और एकता कपूर अपने-अपने संबंधित सोशल मीडिया हैंडल से दर्शकों के प्रेरक स्तर को ऊंचा करने और इस कठिन समय में दर्शकों के बीच शांति के एक तत्व को स्थापित करने के लिए लाइव स्ट्रीमिंग कर रहे थे।
एकता कपूर और गुरुदेव ने सही मायनों में सिंगल माँ पर अपनी प्रेरणा की रोशनी और आशा प्रदान की है, जो लगातार इन चीजों के बारे में चिंतित रहती हैं और खुद से ऐसे चिंताजनक सवाल पूछती हैं जो उन्हें भीतर से परेशान करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *