पिज़्ज़ा के दीवानों को खूब लुभाया पिज़्ज़ा उत्सव

दिल्ली, संवाददाता। पिज़्जा का नाम सुनते ही लोगों के मुंह पानी आने लगता है खासकर युवावर्ग पिज़्जा को खासा पसंद करते हैं। आज का युवा कम से कम दिन में एक बार पिज़्जा ज़रूर खाता है। छोटी-छोटी पार्टियों या गेटटुगेदर के मेन्यु में पिज़्जा ज़रूर षामिल होता है। इसी उपलक्ष्य में पिज्जा फेस्टिवल के रूप में दिल्ली के सेलेक्ट सिटी वाॅल्क माॅल साकेत में 23-25 जनवरी 2018 तक पिज़्जा के दिवानों के लिए आटा, पनीर, स्वादिष्ट सॉस और स्वादिष्ट टॉपिंग के साथ तीन दिन का जश्न मनाया गया।
पतला क्रस्ट, दीप डिश, पिज्जा वाफल्स, पिज्जा गोलगपे, पिज्जा मोमो, पिज्जा शंकु या पिज्जा बर्गर, सभी प्रकार के स्वाद की कलियों के लिए पिज्जा के प्रकार और टॉपिंग वहां मौजूद थे।
वहां कई सारे स्टाॅल्स लगे हुए थे हर स्टाॅल पर हमें कुछ न कुछ अलग देखने को मिला। इस सभी स्टाॅल्स में एक ऐसा भी स्टाॅल था जिसमें खाने के साथ लोगों को मनोरंजन भी खूब हुआ। हम बात कर रहे हैं टर्किष आइसक्रीम के स्टाॅल की जिसका स्टाॅल ‘टर्कोइस’ नाम से लगा हुआ था, हमने देखा कि इस स्टाॅल पर तुर्की की आइसक्रीम को बड़े ही अनोखे अंदाज़ में लोगों को पेष किया जा रहा था ताकि आइसक्रीम के साथ-साथ लोगों को मनोरंजन भी हो। हमें इस तरह से आइसक्रीम बेचने का तरीका पहली बार देखने को मिला जो कि बहुत ही गजब का था।
एक और चीज़ यहां देखने को मिली और वो हमने देखा ‘एन्जल्स किचन’ के स्टाॅल पर। आपने गोलगप्पे तो बहुत खाए होंगे लेकिन चाॅकलेट वाला गोलगप्पा षायद ही किसी ने चखा होगा। स्टाॅल पर मौजूद तन्वी तलवार से हमने पूछा कि गोलगप्पे पर लगी हुई चाॅकलेट पिघल क्यों नहीं रही है तो उन्होंने हमें बताया कि ‘चाॅकलेट के गोलगप्पे को एक तकनीक के तहत बनाया जाता है जिसकी वजह से यह गोलगप्पा तैयार होता है और इस चीज़ का खास ख्याल रखा जाता है कि गोलगप्पे पर ली हुई चाॅकलेट पिघले नहीं। इस तरह का गोलगप्पा इतना स्पेषल है तो ज़ाहिर सी बात है कि इसे परोसने और खाने का तरीका भी बेहद स्पेषल होगा, जी हां चाॅकलेट के गोलगप्पे को खाने के लिए पानी की जगह चाॅकलेट साॅस का इस्तेमाल किया जाता है। चाॅकलेट गोलगप्पा के अलावा वहां पर चाॅकलेट पिज़्ज़ा और पिज़्जा गोलगप्पा अलग-अलग फलेवर में वहां पर मौजूद थे जो लोगों का ध्यान अपनी ओर खींच रहे थे।
‘बेक्ड एंड रैप’ नाम से भी स्टाॅल लगा हुआ था जहां पर हमें बताया गया कि क्योंकि पिज़्जा फेस्टिवल था इसलिए पिज़्जा को मुख्य रूप से प्रस्तुत किया गया लेकिन पिज़्जा के अलावा डिज़र्ट को षामिल किया गया था जिसमें चाॅकलेट वेलवेट केक, चाॅकलेट पेस्ट्री, चीज़ केक, कप केेक, और चाॅकलेट केक पाॅप्स इत्यादि को षामिल किया गया था।
पिज़्ज़ा के अलावा मेनू पर बहुत सारे फैंसी पक्ष भी थे जैसे – बर्गर, फ्राइज, डब्बे, डेजर्ट और पेय इत्यादि। शहर में सबसे चिज़ी उत्सव को मनाया गया जिसमें पिघले चीज़ के साथ ताजा बेक्ड पिज्जा, ताजा पेय और कुछ खूबसूरत संगीत के साथ इस जष्न को मनाया गया। वहां घूमने आए लोगांे ने खाने-पीने का खूब आनंद लिया, वैसे भी खाने-पीने के षाकीनों के लिए ऐसे उत्सव का हमेषा से इंतजार रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *