’’हिज होलीनेस श्री रामानुजाचार्य स्वामी’’ पर होगा इंटरनैशनल शॉर्ट फिल्म फेस्टिवल का आयोजन

नई दिल्ली । भारत के महान संत हिज होलीनेस श्री रामानुजाचार्य की सहस्त्राब्दि वर्षगांठ (1017-2017) के अवसर पर उनकी 216 फीट ऊंची प्रतिमा, जिसे स्टैच्यू आॅफ इक्वेलिटी का नाम दिया गया है, का निर्माण भारत के राज्य हैदराबाद के शमशाबाद में श्रीरामनगर में स्थित जीवा आश्रम के करीब किया जाएगा। इस 1000 करोड़ लागत वाली परियोजना की संकल्पना वर्ष 2014 में की गई थी।
हिज़ होलीनेस श्री चिन्ना जीयर स्वामी ने कहा, ’’स्टैच्यू आॅफ इक्वेलिटी, समानता के लिए काम करने वाले श्री रामानुजाचार्य स्वामी को हमारी ओर से श्रद्धांजलि है। उन्होंने अपने क्रांतिकारी विचारों से 1000 वर्ष पहले ही समाज में बदलाव का बिगुल फूंक दिया था। समाज द्वारा तिरस्कृत व पिछड़े लोगों को उन्होंने ऐसे समय में कुलीन वर्गों के साथ एक ही मंच पर लाने की कोशिश की थी, जब हमारा पूरा समाज छुआछूत और जाति आधारित भेदभाव जैसी सामाजिक बुराइयों से जकड़ा हुआ था। वह पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने पिछड़े हुए लोगों को मंदिरों में प्रवेश कराया था और सभी अवरोधों को दरकिनार कर सामान्य जन को ’अष्टकाक्षरी मंत्र’’ दिया था।

  • स्टैच्यू आॅफ इक्वेलिटी का निर्माण पंच लोहा (पांच धातुओं के मिश्रण) से किया जाएगा।
  • मूर्ति के चारों तरफ 108 दिव्य देश होंगे, जिन्हें पत्थर में वास्तुशिल्प की शानदार कारीगरी से बनाया जाएगा।
  •  यहां आने वाले सभी लोगों को अंग्रेजी, हिंदी, तेलुगु, तमिल समेत 5 भाषाओं में आॅडियो गाइड उपलब्ध कराई जाएंगी, जो इनमें से प्रत्येक मंदिर के इतिहास से उन्हें अवगत कराएगी।
  • अत्याधुनिक टेक्नोलाॅजी के उपयोग से एक एजुकेशनल गैलरी का भी निर्माण होगा, जहां भगवद रामानुजाचार्य के जीवन के प्रेरक प्रसंगों को प्रदर्शित किया जाएगा।
  • भगवद रामानुजाचार्य की 120 किलोग्राम वजनी स्वर्ण प्रतिमा भी यहां रखी जाएगी, जिसका वजन उनके द्वारा इस संसार में बिताए गए वर्षों का प्रतीक कहोगा। इस मूर्ति को ध्यानम मंदिरम (मेडिटेषन हाॅल) में स्थापित किया जाएगा।
  • एक ओम्नीमैक्स थिएटर का भी निर्माण किया जाएगा, जिसमें हमारे वैदिक ग्रंथों में बताए गए ब्रह्मांड के रहस्यों पर आधारित बेहद जानकारीपरक एवं सांस्कृतिक रूप से प्रासंगिक लघु फिल्में दिखाई जाएंगी।
  • यह पूरा स्थल पर्यावरण के अनुकूल होगा और यहां बेहद उत्कृष्ट सुरक्षा फीचर मौजूद होंगे, जो अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप होंगे। पूजनीय श्री चिन्ना जीयर स्वामी ने श्री रामानुजाचार्य की धरोहर के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा, ”करीब 1000 वर्ष पहले जब हमारा समाज जातिगत आधारित भेदभाव की चपेट में बुरी तरह से जकड़ा हुआ था तब एक व्यक्ति ने समाज के पिछड़े वर्ग के लिए आवाज उठाई। एक व्यक्ति ने अकेले दम पर सांस्कृतिक तूफान ला दिया और मूल वैदिक ज्ञान की मशाल जलाई। एक व्यक्ति ने ”अछूत’’ कहलाने और सामाजिक हाशिए पर पड़े लोगों के लिए बंद हो चुके मंदिरों के दरवाजे खोले थे। आज लाखों लोग एक साथ आकर इस महान व्यक्ति को श्रद्धांजलि देते हैं। इस अद्वितीय संत ने आधुनिक, समावेषी आध्यात्मिक जागरूकता की राह खोली थी। आज श्री रामानुजाचार्य स्वामी सिर्फ एक पवित्र नाम नहीं बल्कि इससे कहीं अधिक है। वह आने वाली पीढ़ियों के लिए समानता और उम्मीद का प्रकाष हैं।’’

”श्री रामानुज सहस्त्राब्दि मिलिनियम आयोजन (1017-2017) के तहत पूजनीय श्री चिन्ना जीयर स्वामी ने ”पूजनीय श्री रामानुजाचार्य’’ पर एक अंतरराष्ट्रीय शॉर्ट फिल्म फेस्टिवल की भी घोषणा की। इसका आयोजन जीयर इंटीग्रेटेड वैदिक एकेडमी (जीवा) ग्लोबल हिंदू हेरिटेज फाउंडेशन (जीएचएचएफ) और अमेरिका के संगठन सेवटेंपल्स डाॅट ओआरजी के साथ मिलकर करेगी।’’ पूजनीय श्री रामानुजाचार्य’’ पर आधारित अंतरराष्ट्रीय शॉर्ट फिल्म फेस्टिवल का आयोजन 1 फरवरी से 3 फरवरी 2018 तक हैदराबाद, तेलंगाना के प्रसाद लैब्स में किया जाएगा और इसके विजेताओं के लिए पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन 4 फरवरी 2018 को श्री चिन्ना जीयर स्वामी आश्रम, जीवा, श्रीरामनगर, शमशाबाद, हैदरबाद-509217, तेलंगाना में किया जाएगा।इस थीम पर आधारित सबसे अच्छी शॉर्ट फिल्म को ’’श्री रामानुज सहस्त्राब्दि पुरस्कारम’’ के साथ ही 10 लाख रुपये का ईनाम भी दिया जाएगा। दूसरे स्थान पर रहने वाली शॉर्ट फिल्म को 8 लाख रुपये जबकि तीसरे स्थान पर रही फिल्म को 6 लाख रुपये का पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। इसके अतिरिक्त 1 लाख रुपये नकद के तीन विशेष प्रशंसा  पुरस्कार भी होंगे, जो चयनित शॉर्ट फिल्म निर्माताओं को प्रदान किए जाएंगे। पुरस्कारों के अतिरिक्त विजेताओं को स्मृतिचिह्न और प्रतिभागिता सर्टिफिकेट भी प्रदान किए जाएंगे जबकि प्रत्येक प्रतिभागी को प्रशंसा प्रमाणपत्र मिलेगा। चयनित फिल्मों में बेस्ट एक्टर, बेस्ट एक्ट्रेस, बेस्ट डायरेक्टर इत्यादि विभिन्न वैयक्तिक श्रेणियों में विशेष वैयक्तिक पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *