खाद की कमी की समस्या दूर करने के लिए खुद स्पीकर बिरला ने संभाली कमान

-डॉ. प्रभात कुमार सिंघल, कोटा
संसदीय क्षेत्र कोटा-बूंदी समेत कोटा संभाग में खाद की किल्लत को दूर करने के लिए अब स्वयं लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कमान संभाली है। स्पीकर बिरला ने कहा कि कोटा-बूंदी में यूरिया की आपूर्ति को दुगुना किया जाएगा, हर रोज यूरिया लेकर मालगाड़ियां यहां पहुंचेंगी। पिछले कुछ दिनों से लगातार सामने आ रही खाद की कमी की खबरों को लेकर स्पीकर बिरला काफी चिंतित थे। संसदीय क्षेत्र कोटा-बूंदी की एक दिवसीय यात्रा पर आए बिरला ने इस मामले को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए रविवार को लोकसभा कैंप कार्यालय में संभागीय आयुक्त, कृषि विभाग के अधिकारियों, चंबल फर्टीलाइजर्स के अधिकारियों तथा किसान प्रतिनिधियों के साथ बैठक कर हालात की समीक्षा की।
उन्होंने अधिकारियों से इस वर्ष की संभावित मांग, आवंटन तथा आपूर्ति की स्थिति जानी। खाद के आने की फ्रीक्वेंसी, वितरण में आ रही समस्याओं की भी जानकारी ली। साथ ही किसान प्रतिनिधियों से बात कर खाद आवंटन व्यवस्थाओं में कमी के बारे में फीडबैक लिया। सभी से बात करने के बाद लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने कहा कि खाद की कमी नहीं है। समस्या उसके समुचित वितरण को लेकर है, जिसके समुचित प्रबंधन की आवश्यकता है। उन्होंने इस बारे में मौके से ही केंद्रीय उर्वरक एवं रसायन मंत्रालय के उच्च अधिकारियों से फोन पर बात कर कोटा-बूंदी में खाद की आपूर्ति 20 हजार मीट्रिक टन से बढ़ाकर 40 हजार मीट्रिक टन करने के निर्देश दिए। इसके अलावा आईपीएल, कृभको और एनएफएल के माध्यम से प्रतिदिन एक रैक निरंतर भिजवाने को भी कहा।
स्पीकर बिरला ने बैठक में उपस्थित अधिकारियों से कहा कि यह व्यवस्था गुरूवार तक सुचारू हो जाएगी, तब सीएफसीएल से आ रही आपूर्ति के माध्यम से प्रबंधन करें। सीएफसीएल से आ रहा यूरिया क्रय-विक्रय सहकारी समितियों के माध्यम से ग्राम सहकारी समितियों तक पहुंचाया जाए। प्रत्येक ग्राम सहकारी समिति को मांग के अनुरूप प्रतिदिन 50 से 100 मीट्रिक टन यूरिया की आपूर्ति की जाए। यह यूरिया किसानों को उपलब्ध करवाया जाए ताकि उनकी तात्कालिक मांग कुछ हब तक पूरी हो सके। स्पीकर बिरला ने कहा सीएफसीएल के अधिकारियों से कहा कि फैक्ट्री कोटा में होने के नाते कोटा-बूंदी के किसानों के प्रति उनका विशेष दायित्व बनता है। अधिकारी प्रयास कर अपनी क्षमता को बढ़ाने का प्रयास करें ताकि इस अतिरिक्त आपूर्ति से कोटा-बूंदी में राहत मिल सके। उन्होंने कहा कि वे दिल्ली जाते ही इस मामले में प्राथमिकता से कार्यवाही करेंगे। उनका प्रयास होगा कि अन्य कंपनियों के माध्यम से प्रतिदिन कोटा व बूंदी में यूरिया की रैक आए। इससे क्षेत्र में यूरिया की कमी दूर हो जाएगी।

  • दिल्ली में यूरिया कंपनियों के अधिकारियों को बुलाया

लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने बैठक में ही ओएसडी राजीव दत्ता को दिल्ली में इफ्को, कृभको और आईपीएल के वरिष्ठ अधिकारियों को बुलाने के निर्देश दिए। इन अधिकारियों सेे कोटा-बूंदी क्षेत्र में यूरिया की आपूर्ति के संबंध में जानकारी लेकर बिरला उचित निर्देश देंगे।

  • डीएपी की दो रैक आएगी

डीएपी की भी आवश्यकता की जानकारी मिलने पर लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने केंद्रीय उर्वरक एवं रसायन मंत्रालय के उच्च अधिकारियों को इसके भी दो रैक तत्काल भेजने के निर्देश दिए। अधिकारियों ने आश्वस्त किया कि आईपीएल और कृभको के माध्यम से डीएपी की दो रैक जल्द कोटा-बूंदी पहुंच जाएंगी।

  • किसान अनावश्यक स्टॉक नहीं करें

लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने किसानों से भी यूरिया का अनावश्यक स्टाॅक नहीं करने का आग्रह किया है। स्पीकर बिरला ने कहा कि बाद में यूरिया नहीं मिलेगा इस डर से किसान महंगी दर पर भी यूरिया खरीद का उसको स्टाॅक कर रहे हैं। बिरला ने किसानों का आश्वस्त किया कि जब तक वे हैं, खाद-बीज-दवा-सलाह किसी भी चीज की कमी नहीं आने देंगे। अगले 4-5 दिन में यूरिया की किल्लत को पूरी तरह दूर कर दिया जाएगा।

  • ‘‘अटैचमेंट‘‘ बेचा तो लाइसेंस निरस्त

लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने बैठक में कुछ दुकानदारों द्वारा किसानों को यूरिया के साथ अटैचमेंट लेने पर मजबूर किए जाने पर कड़ी नाराजग व्यक्त की। बिरला ने कहा कि जो भी दुकानदार ऐसा कर रहा है, उसका लाइसेंस तत्काल निरस्त किया जाए। उसके खिलाफ एफआईआर हो और उसका लाइसेंस रिन्यू भी नहीं किया जाए।

  • बिरला को बताई समस्या

बैठक के पूर्व किसान प्रतिनिधियों ने भाजपा देहात जिलाध्यक्ष योगेंद्र नंदवाना व पूर्व जिला परिषद सदस्य प्रेम गोचर के नेतृत्व में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मुलाकात कर ज्ञापन के माध्यम से क्षेत्र में यूरिया व डीएपी की किल्लत के बारे में अवगत कराते हुए कहा कि सहकारी समितियों में पर्याप्त आपूर्ति नहीं होने के कारण अन्नदाता को घंटो तक कतारों में खड़े रहना पड़ता है। बिरला ने आश्वस्त किया कि क्षेत्र में यूरिया व डीएपी की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *