कोरोना को हराने के लिए जागरुकता जरूरी : मनोज तिवारी

नई दिल्ली। भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने कहा है कि दिल्ली में विकराल रूप ले रही कोरोना महामारी को हराने के लिए दवाइयों और उपचार से ज्यादा जागरुकता की आवश्यकता है। इस महामारी से निपटने के लिए आपसी सहयोग और पारदर्शी व्यवस्था की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनकी सरकार के सहयोगी महामारी को इस तरह दिल्ली की जनता के बीच प्रस्तुत कर रहे हैं जैसे इसका कोई समाधान नहीं है। तिवारी ने कहा कि समाधान है लेकिन मजबूत इच्छाशक्ति से क्रियान्वयन करने की जरूरत है और दिल्ली सरकार को चाहिए कि संकट की इस घड़ी में वह भय का माहौल पैदा करने के बजाय दिल्ली के लोगों में मजबूत विश्वास का आधार बने। मनोज तिवारी ने रविवार को जारी बयान में कहा कि दिल्ली की दिन-प्रतिदिन बदतर होती व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए केंद्र सरकार ने कुछ बड़े कदम उठाए हैं और दिल्ली की जनता को उसका सीधे लाभ मिले इसके लिए पूर्ण व्यवस्था और संसाधनों का जनता तक जाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने केंद्र से मिलने वाले मुफ्त राशन को जनता तक पहुंचाने में लापरवाही बरती जिसका परिणाम एक बड़े पलायन के रूप में दिल्ली और देश ने देखा।
भाजपा सांसद ने कहा कि गृहमंत्री अमित शाह के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने संसाधनों को दिल्ली में महामारी से निपटने के लिए लगा दिया है। प्रतिदिन 16000 मुफ्त में कोरोना टेस्ट करने की व्यवस्था की गई है जो सीधे जनता के बीच स्थापित कोरोना टेस्टिंग सेंटरों पर किए जा रहे हैं। 500 वेंटिलेटर केंद्र सरकार की ओर से दिल्ली सरकार को उपलब्ध कराए गए हैं। इसके अलावा एशिया का सबसे बड़ा कोरोना केयर सेंटर जिसमें 10,000 बेड की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि भारत की परंपरा में चुनौतियां एक हिस्सा रहा है और हर चुनौती के बाद भारत के लोग चौगुनी मजबूती के साथ अपने आप को साबित करने में कामयाब रहे हैं। इस बार भी कोरोना जैसी वैश्विक महामारी को हराकर दिल्ली और देश के लोग अपने जीवन में नए निखार और नए युवा के साथ नए भारत के विकास में भागीदार बनेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *