एम्बीक टेक्नोवेशंस द्वारा एक अनूठे वेलनेस प्रोग्राम का अनावरण

गुरुग्राम। गुरुग्राम के सेक्टर 37बी में स्थित एम्बीक टेक्नोवेशंस के द्वारा कढ़ाई क्षेत्र में कार्यरत श्रमिकों के समग्र विकास के लिएअनूठे वेलनेस प्रोग्राम की पहल की है, इस वेलनेस प्रोग्राम का अनावरण कपड़ा राज्य मंत्री अजय टम्टा, एईपीसी के अध्यक्ष एचकेएल मगु और ओरिएंट क्राफ्ट के चेयरमैन सुधीर ढिंग्रा के द्वारा किया गया। कढ़ाई क्षेत्र में सर्वोत्तम वैश्विक प्रथाओं और तकनीकी उन्नयन शुरू करने के लिए इसकी पहल की गई है, इस कदम से लगभग 45 मिलियन लोगों को राहत पहुंचने की संभावना है।
इस मौके पर कपड़ा राज्य मंत्री अजय टम्टा ने कहा कि, ‘ईएमबीक्यू ने इस उद्योग में एक अद्वितीय पेशकश की है, जो की किसी भी मौजूदा संस्थान द्वारा अभी तक कार्यक्रमों की पेशकश नहीं की गई है। अगर हमें अपना उद्योग बढ़ाना है, तो हमें प्रशिक्षण और विकास में निवेश करना होगा। जीएसटी और ड्यूटी ड्रा के बारे में परिधान विशेषज्ञों का कोई भी मुद्दा सरकार द्वारा शीघ्र ही संबोधित किया जाएगा।”
इस अवसर पर एम्बीक के सह-संस्थापक विकास कपूर ने कहा कि, “हमारी दृष्टि तकनीकी और प्रबंधन शिक्षा के माध्यम से इनके अंतराल को दूर करके, परिधान उद्योग को ज्ञान की शक्ति के साथ सशक्त बनाना है, जिसे अभी तककढ़ाई वाले क्षेत्र में उपेक्षित किया गया है।”
एईपीसी के अध्यक्ष एचकेएल मंगु ने कहा कि, “परिधान उद्योग देश में सबसे बड़ा रोजगार प्रदाता है। यह अवश्यकरणीय है कि एम्बीकने अपनी दृष्टि पूरे उद्योग में साझा किया और जल्दी से कार्यान्वित किया। यह ऐसा उपकरण है जो भारतीय परिधान के विशेषज्ञों को मदद कर सकता है, जो अभी चुनौतीयों का सामना कर रहें हैं।”
भारत में कृषि के बाद, वस्त्र उद्योग सबसे बड़ा रोजगार प्रदाता है। हालांकि यह क्षेत्र अपने दक्षिण-पूर्वी एशियाई पड़ोसियों की कड़ी प्रतियोगिताओं का सामना कर रहा है, लेकिन कढ़ाई का क्षेत्र अभी भी भारत की विशेषता है। प्रभुत्व संपन्न के बावजूद, इस क्षेत्र को नई कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है, जो तकनीकी रूप से कमजोर और मंद कर्मचारियों की वजह से है। इन खामियों को दूर करने के लिए नए तरीकों को लाने की एक सख्त आवश्यकता है।
इसे ध्यान में रखते हुए, एम्बीक (म्डठपफ) ने विभिन्न कार्य परिस्थितियों और परिधान उद्योग के सभी विभागों से संबंधित स्वास्थ्य जोखिमों का गहन अध्ययन करने के लिए एक विशेषज्ञ पैनल को कमीशन किया। उनकी सिफारिशों के बाद, एक अद्वितीय एम्बीककल्याण कार्यक्रम तैयार किया गया था। जिसके कुछ विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

  • यह जीवन-शैली में बदलाव, पोषण, योग और व्यायाम को कवर करने वाला एक व्यापक कार्यक्रम है, जो कि कार्य क्षेत्र में कर्मचारीयों द्वारा सामना किए जाने वाले स्वास्थ्य समस्याओं पर काबू पाने के लिए आसानी से अनुसरण किया जा सकता है, विशेष रूप सेउनकी नौकरी की भूमिका निभाते समय।
  • इसमें सुरक्षा के दिशा निर्देश भी शामिल हैं, जिसका उद्देश्य कार्य स्थलों पर होने वाले दुर्घटनाओं से बचाना है।
  • इसमें सिलाई और काटने के पारंपरिक विधाओं से ऊपर और प्रौद्योगिकी (जिसे कंप्यूटर सहायता प्राप्त कढ़ाई कहा जाता है) के इस्तेमाल पर जोर दिया गया है।
  • एक वेलनेस मॉड्यूल की तत्काल आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए, सभी श्रमिकों को मुफ्त में उपलब्ध कराने का निर्णय लिया गया है। यह कढ़ाई क्षेत्र को विकसित करने के प्रति उनके अत्यधिक योगदान के लिए आभार का प्रतीक है।
    ऐसे समय में जब परिधान और वस्त्र उद्योग कठोर प्रतिस्पर्धा का सामना कर रहा हैतो ऐसे में फोकस बिंदु हमेशा दक्षता और उत्पादकता बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी को बेहतर बनाने पर होना चाहिए। एम्बीक वेलनेस मॉड्यूल उस दिशा में एक कदम है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *