5 लाख छात्र ‘विद्यार्थी विज्ञान मंथन 2017’ में लेंगे भाग

विज्ञान में विशेष अभिरूचि रखने वाले छात्रों की तलाश के लिए पिछले साल की तरह इस वर्ष भी विज्ञान भारती ‘ विधार्थी विज्ञान मंथन 2017’ प्रतिभा खोज प्रतियोगिता का आयोजन कर रहा है। यह प्रतियोगिता डिजिटल माध्यम के द्वारा आयोजित की जाएगी। 26 नवंबर, 2017 को आयोजित होने वाली प्रतियोगिता परीक्षा में देश के छठी कक्षा से लेकर ग्यारहवीं कक्षा के छात्र हिस्सा ले सकते हैं। इस प्रतियोगिता के आयोजन में विज्ञान प्रसार (विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय का स्वायत्त संगठन) और एनसीआरटी भी शामिल हैं। प्रतिभागी इस परीक्षा में डिजिटल माधयम यानी ऐप-फोन/टैबलेट या लैपटॉप का ही उपयोग करेंगे जिससे ये विज्ञान की नवीनतम दुनिया को सुगमता से जान सकेंगे।

रजिस्ट्रेशन
यह प्रतिभा खोज परीक्षा कई चरणों में पूरी की जाएगी। छात्र अपने स्कूल के जरिये अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते है। स्कूल पहले अपना लॉग-इन आईडी रजिस्टर कर शामिल होंगे और स्कूल द्वारा अधिकृत प्रतिनिधि अपने यहाँ इस परीक्षा का आयोजन करेंगे ।स्कूल अपना रजिस्ट्रेशन करने के बाद जितनी चाहें छात्रों का इस प्रतियोगिता के लिए नामांकित कर सकते है। 20 सितम्बर, 2017 तक छात्र अपना डिजिटल माध्यम और लॉग इन आईडी बदल सकते है। 26 नवंबर को प्रतियोगी अपने स्कूल में प्रतियोगिता परीक्षा शामिल होंगे।
सिलेबस
इस प्रतियोगिता के लिए निर्धारित पाठ्यक्रम में एनसीआरटी की कक्षा की गणित और विज्ञान की पुस्तकें, विज्ञान भारती द्वारा प्रकाशित डॉ. विक्रम साराभाई और डॉ होमी जहांगीर भाभा की जीवनी, सामान्य ज्ञान और लॉजिक एंड रीजनिंग होंगे। विज्ञान भारती की पठन-सामग्री पहली अक्टूबर से विधार्थी विज्ञान मंथन के वेबसाइट ूूूण्अअउण्वतहण्पद पर उपलब्ध रहेगी। इस प्रतियोगिता की तैयारी के लिए प्रतिभागी 1 अक्टूबर से 20 नवंबर तक विज्ञान भारती द्वारा बनाये मॉक टेस्ट में भाग ले सकते है। अधिक जानकारी के लिए छात्र ‘विधार्थी विज्ञान मंथन’ के वेबसाइट पर जा कर जानकारी ले सकते हैं।

कई चरणों में होने वाले इस प्रतिभा खोज प्रतियोगिता में सबसे पहले स्कूल लेवल की राष्ट्रीय स्तर परीक्षा पर आयोजित की जायेगी। फिर जिलाए जोन और राज्य स्तर पर प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी। राज्य स्तर पर चयनित प्रतियोगियों के कौशलए लेखन शैली और प्रायोगात्मक कौशल का मूल्यांकन किया जायेगा। सफल छात्रों को नगद पुरस्कार एस्मृति चिन्ह और प्रमाण पत्र दिए जायेगें। साथ ही राज्य स्तर पर सफल छात्रों को राज्य में स्थित राष्ट्रीय शोध संस्थानों में जाने का अवसर मिलेगा। राज्यों से सफल प्रतियोगियों के लिए राष्ट्रीय स्तर कार्यशाला आयोजित की जाएगी और वहां प्रतियोगियों के प्रस्तुतीकरण एनेतृत्व क्षमता सृजनात्मक सोच आदि का फिर से मूल्यांकन किया जायेगा। कक्षा वार यहाँ हर वर्ग से श्रेष्ठ तीन छात्र चयनित किए जायेंगे जिन्हे हिमालय कहा जायेगा । राष्ट्रीय स्तर पर जीतने वाले प्रतिभागियों को देश.विदेश के महत्वपूर्ण वैज्ञानिकों से मिलने का मौका समेत स्टडी टूर और विदेशी दौरों पर भेजा जायेगा ।
विधार्थी विज्ञान मंथन एक ऐसा मंच है जहां जूनियर छात्रों में विज्ञान के प्रति विशेष अभिरुचि पैदा करने और उन्हें आगे विज्ञान के अध्ययन के लिए विशेष रूप से प्रेरित करने का प्रयास किया जाता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *