दिल्ली के पूर्वी और उत्तरी छोरों का अत्याधुनिक रूट शिव विहार-त्रिलोकपुरी संजय झील, 31 से होगी लाइन-7 ‘पिंक लाइन’ की शुरूआत

नई दिल्ली। दिल्ली मेट्रो फेज़ 3 के अंतर्गत 59 किमी. लंबे मजलिस पार्क -शिव विहार काॅरीडोर ‘लाइन-7’, जिसे पिंक लाइन भी कहा जाता है, का 17.8 किमी. लंबा शिव विहार-त्रिलोकपुरी संजय झील खंड यात्री परिचालन के लिए बिल्कुल तैयार है।
इस सेक्शन पर अगर यात्रियों को शिव विहार से त्रिलोकपुरी जाना है तो पहले शिव विहार से मौजपुर पहुंचना होगा और फिर दूसरी मेट्रो पकड़नी होगी। इसके बाद आगे जाने पर यात्रियों को आईपी एक्सटेंशन से मेट्रो बदलकर त्रिलोकपुरी पहुंचना होगा। डीएमआरसी के मुताबिक शिव विहार-मौजपुर सेक्शन पर मेट्रो शटल की तरह काम करेगी। वहीं, आईपी एक्सटेंशन से त्रिलोकपुरी जाने के लिए मेट्रो का संचालन सिंगल लाइन पर होगा। आईपी एक्सटेंशन पहुंचने वाली हर तीसरी मेट्रो त्रिलोकपुरी जाएगी और फिर वहां से वही ट्रेन लौटेगी। यात्रियों को इस सेक्शन पर मेट्रो बदलने के फेर में परेशानी का सामना भी करना पड़ सकता है।
यह भाग राजधानी दिल्ली के पूर्वी और उत्तरी छोरों के लिए एक बड़ा वरदान होगा। वेलकम (रेड लाइन के साथ), कड़कड़डूमा और आनंद विहार आईएसबीटी (ब्लू लाइन के साथ) पर तीन इंटरचेंज सुविधाओं से शिव विहार, गोकुलपुरी, मौजपुर, जाफराबाद आदि जैसे क्षेत्रों की कनेक्टिविटी काफी बढ़ जाएगी। भविष्य में यह भाग वर्तमान में पिंक लाइन में परिचालनरत मजलिस पार्क-लाजपत नगर खंड के साथ जुड़ जाएगा।
इस खंड के शुरू होने से दिल्ली मेट्रो नेटवर्क 314 किमी. लंबा हो जाएगा जिसमें 229 मेट्रो स्टेशन हो जाएंगे। इस लाइन के उद्घाटन के बाद दिल्ली मेट्रो का 80 किमी. से अधिक नेटवर्क वर्ष 2018 में खुल जाएगा। दिल्ली मेट्रो फेज़ 3 के अंतर्गत सभी प्रमुख काॅरीडोर वर्ष के अंत तक यात्रियों के लिए खोले जाने की उम्मीद है।
17.8 किमी लंबे इस सेक्शन पर 10 तीव्र मोड़ हैं। इस सेक्शन पर आवास क्षेत्रों और पर्यावरण को नुकसान पहुंचाए बिना इन मोड़ों को बेहद सावधानी से तैयार किया गया है। इनमें आईपी एक्सटेंशन पर जॉगर्स पार्क पर 223 मीटर, डीटीआई नाला क्रॉसिंग पर 202 मीटर, पटपड़गंज औद्योगिक क्षेत्र में 252 मीटर, आनंद विहार क्रॉसिंग ईडीएम मॉल पर 200 मीटर, आनंद विहार रेलवे ट्रैक क्रॉसिंग पर 308 मीटर, कड़कड़डूमा मेट्रो स्टेशन के निकट 302 मीटर, महाराजा सूरजमल मार्ग पर 200 मीटर, स्वामी दयानंद मार्ग पर 235 मीटर, वेलकम पर 252 मीटर और सीलमपुर कॉर्नर पर 235 मीटर के तीव्र मोड़ हैं।
खास बात यह कि इस कॉरिडोर पर तीन लूप में मेट्रो का परिचालन किया जाएगा। यानि कि शिव विहार से त्रिलोकपुरी के लिए सीधी मेट्रो नहीं मिलेगी, मौजपुर में मेट्रो बदलनी पड़ेगी।
दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) का कहना है कि 35-38 मिनट में यह सफर पूरा हो सकेगा। इस कॉरिडोर पर 15 स्टेशन हैं। इस पर कुल 13 ट्रेनों का परिचालन होगा। पहला लूप शिव विहार-मौजपुर शिव विहार से त्रिलोकपुरी के बीच आवागमन के लिए यात्रियों को मौजपुर में मेट्रो बदलनी पड़ेगी। शिव विहार से मौजपुर के बीच चार स्टेशन हैं।
इस सेक्शन पर तीन मेट्रो ट्रेनें 5ः12 मिनट के अंतर से चलेंगी। शिव विहार से चलने वाली मेट्रो मौजपुर से वापस हो जाएगी। यहां से आइपी एक्सटेंशन व त्रिलोकपुरी के लिए सीधी मेट्रो मिलेगी। दूसरा लूप- मौजपुर से आइपी एक्सटेंशन मौजपुर से आइपी एक्सटेंशन के बीच 10 ट्रेने चलेंगी। यहां भी 5ः12 मिनट के अंतराल पर म्रेटो का परिचालन किया जाएगा।
इस रूट पर कड़कड़डूमा में 21 मीटर की ऊंचाई पर मेट्रो स्टेशन बना है। यह दिल्ली मेट्रो का दूसरा सबसे ऊंचा एलिवेटेड स्टेशन है। धौला कुआं के पास पिंक लाइन कॉरिडोर की ऊंचाई सबसे ज्यादा यानि 23 मी. है।
बता दें कि दिल्ली मेट्रो ने विनोद नगर डिपो में भारत का ऐसा पहला मेट्रो ट्रेन डिपो बनाया है जो दो मंजिला है। इस डिपो को बीच से गुजर रहे नाले की वजह से दो भागों में विभाजित किया गया है। इस डिपो में दो तलों पर कुल 36 मेट्रो ट्रेनें खड़ी करने की क्षमता है। यहां पर मेट्रो के रख रखाव की आधुनिक तकनीक का प्रयोग किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *