70वें गणतंत्र दिवस पर कई राज्यों की झांकियों में नजर आया महात्मा गांधी का जीवन दर्शन

नई दिल्ली। इस बार राजधानी दिल्ली में 70वां गणतंत्र दिवस मनाया गया। खास बात यह है कि इस बार गणतंत्र दिवस की थीम महात्मा गांधी की 150वीं जयंती से जुड़ी हुई थी और कई राज्यों की झांकियां राष्ट्रपिता पर केन्द्रित रहीं। परेड में इस साल कुल 22 झांकियां शामिल हुई थी। इनमें से 16 राज्यों एवं केन्द्र शासित प्रदेशों की और छह केन्द्र के सरकारी मंत्रालयों और विभागों की झांकियां थीं। दिल्ली, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, सिक्किम, गुजरात, पंजाब, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, गोवा, जम्मू कश्मीर, कर्नाटक, अरुणाचल प्रदेश और अंडमान-निकोबार की झांकियां भी जश्न में शामिल हुईं। इस जश्न में रामफोसा की मौजूदगी इस लिहाज से भी महत्वपूर्ण रही क्योंकि गांधी ने दक्षिण अफ्रीका में 21 साल बिताए थे और यहीं से उन्हें शांति की राह पर आगे बढ़ने की प्ररेणा मिली थी।
दिल्ली की झांकी में बिरला हाउस में प्रार्थना करते गांधी को दिखाया गया। उत्तर प्रदेश की झांकी में गांधीजी की 150वीं जयंती को दिखाया गया साथ ही काशी के घाट भी नजर आए। पश्चिम बंगाल की झांकी में रबिंद्रनाथ टैगोर के साथ गांधी नजर आए। गुजरात की झांकी में ऐतिहासिक दांडी यात्रा और सविनय अवज्ञा आंदोलन को दर्शाया गया।
कर्नाटक की झांकी में कांग्रेस के बेलगावी सत्र को दिखाया गया। यह कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर गांधीजी का एकमात्र अधिवेशन था। अंडमान निकोबार की झांकी में सेल्युलर जेल को दिखाया गया था जिसमें जेल में बंद कैदियों को गांदी जी संबोधित कर रहे हैं।
रेल मंत्रालय की झांकी में भाप के इंजन को दिखाया गया। साथ ही गांधीजी के साथ दक्षिण अफ्रीका में हुए भेदभाव को दिखाया गया। रेलवे की झांकी में एक वकील मोहनदास करमचंद गांधी के महात्मा गांधी बनने तक के सफर को दिखाया गया। पहले डिब्बे में युवा मोहनदास को दक्षिण अफ्रीका में पीटरमैरिट्सबर्ग रेलवे स्टेशन पर केवल यूरोप के लोगों के लिए आरक्षित डिब्बे से नीचे फेंकते हुए दिखाया गया। इसके बाद वाले डिब्बे पर गांधी जी और उनकी पत्नी कस्तूरबा गांधी को लोगों से मिलते दिखाया गया। इसके बाद महात्मा गांधी को हरिजन कोष एकत्र करते दिखाया गया। इस झांकी को भीड़ ने बेहद सराहा और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने खड़े होकर ताली भी बजाई। कृषि मंत्रालय की झांकी में गांधीजी को खेती करते हुए दिखाया गया है। इसमें श्वेत क्रांति का चित्रण था। केंद्रीय लोक निर्माण विभाग की झांकी में फूलों से गांधी की 150वीं जयंती को दिखाया गया है।
देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गणतंत्र दिवस के मौके पर रंग-बिरंगा साफा पहने हुए नजर आए, पारंपरिक कुर्ता पायजामा एवं नेहरू जैकेट पहने मोदी ने गणतंत्र दिवस परेड के लिए जाने से पहले अमर जवान ज्योति पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी।
समारोह में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज सहित मोदी सरकार के अधिकतर मंत्रियों ने और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और एचडी देवेगौड़ा, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, वरिष्ठ कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सहित देश के कई शीर्ष राजनेता मौजूद रहे।
इस बार सुभाष चंद्र बोस की इंडियन नेशनल आर्मी ने पहली बार गणतंत्र दिवस की परेड में हिस्सा लिया। इंडियन नेशनल आर्मी (आईएनए) के चार दिग्गज परमानंद, ललित राम, हीरा सिंह और भगमल ने भी पहली बार परेड में हिस्सा लिया जिनकी आयु 90 वर्ष से अधिक है।
जम्मू कश्मीर के शोपियां जिले में पिछले वर्ष नवंबर में आतंकवादियों से लोहा लेते वक्त जान कुर्बान करने वाले लांस नायक नजीर अहमद वानी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अशोक चक्र से सम्मानित किया। वानी अशोक चक्र पाने वाले पहले कश्मीरी हैं।वह पिछले साल दो आतंकियों को ढेर करने के बाद शहीद हुए थे। आंखों में गर्व का भाव लिए लांस नायक की पत्नी और मां ने गणतंत्र दिवस समारोह में यह सम्मान ग्रहण किया।
भारतीय सेना के चारआर्टिलरी गन सिस्टम एम 777 अमेरिकन अल्ट्रा लाइट हॉवित्जर ने भी लोगों को अपनी ओर आकर्षित किया। हॉवित्जर तोप 30 किलोमीटर के दायरे में लक्ष्य को भेद सकती है। यह समतल और पहाड़ी दोनों इलाकों के लिए कारगर है। राजपथ पर टी-90 टैंक ने राष्ट्रपति को सलामी दी। इस समय यह भारत की सबसे बड़ी ताकत है। भारतीय वायु सेना के दल में 144 वायु योद्धा शामिल थे। वहीं लाइटकॉम्बैट एयरक्राफ्ट (एलसीए), लो-लेवल लाइट वेट रडार (एलएलडब्ल्यूआर), सुखोई -30एमकेआई और आकाश मिसाइल सिस्टम यहां प्रदर्शित किए गए। भारीतय सेना के टी-90 टैंक, बॉलवे मशीन पीकेट, सर्फेज माइन क्लियरिंग सिस्टम, 115 मिमी/52 कैलिबर ट्रैकड सेल्फ प्रोपेल्ड गन (के-9 वज्र), ट्रांसपोर्टेबल सैटेलाइट टर्मिनल, ट्रूप लेवल रडार एंड आकाश वेपन सिस्टन का भी परेड में प्रदर्शन किया गया।
परेड में सिख लाइट इन्फैंट्री, जम्मू और कश्मीर लाइट इन्फैंट्री, गोरखा ब्रिगेड, सेना सेवा कोर, सेना आपूर्ति कोर (उत्तर), प्रादेशिक सेना बटालियन की पैदल सेना ने हिस्सा लिया। भारतीय नौसेना का ब्रास बैंड, पैदल सेना और झांकी और वायु सेना का बैंड और पैदल सेना भी यहां पहुंची थी।
पैरा-मिलिट्री और अन्य सहायक बलों ने राष्ट्रीय कैडेट कोर और राष्ट्रीय सेवा योजना के साथ परेड में भाग लिया। प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार जीतने वाले 26 बच्चे भी जीप में सवार होकर राजपथ पहुंचे। आखिर में जब परेड के अंत हुआ तब स्कूली बच्चों ने भी रंगारंग प्रस्तुति दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *