रोडकास्ट बना रहा है स्थानीय टैक्सी वेंडर्स को कटिंग-एज टेक्नोलॉजी से सशक्त

नई दिल्ली। भारत के प्रमुख टेक-ड्रिवन असेट मॉनिटरिंग, फ्लीट मैनेजमेंट और व्हीकल ट्रैकिंग प्लेटफार्म रोडकास्ट ने हाल ही में लोकल टैक्सी वेंडर्स को मदद करने की अपनी योजना की घोषणा की है। इसके जरिये लोकल टैक्सी वेंडर्स इंडस्ट्री के दिग्गजों के मुकाबले में प्रतिस्पर्धा करने के लिए तैयार हो सकेंगे। इससे न केवल बिजनेस प्रक्रिया स्ट्रीमलाइन होगी बल्कि क्षमता भी बढ़ेगी।
भारत में 88 प्रतिशत टैक्सी अब भी असंगठित क्षेत्र से जुड़ी है और लोकल टैक्सी सर्विस प्रोवाइडर्स के लिए पूंजी के मामले में समृद्ध बड़ी दिग्गज कंपनियों के सामने टिक पाना मुश्किल हो रहा है। ऐसे परिदृश्य में रोडकास्ट ने अपने स्मार्टफोन से फ्लीट मैनेजमेंट और ट्रैकिंग सॉल्यूशन के जरिये लोकल वेंडर्स को कई सुविधाएं देने की पेशकश की है। इसमें वाहन की लोकेशन जानने, और ऑटोमेटेड इनवॉइस बनाने के साथ ही ईजी राइड मैनेजमेंट, 24 घंटे फ्लीट विजिबिलिटी और पिक अपध् ड्रॉप पॉइंट नेविगेशन जैसी सुविधाएं भी दी हैं।
इस पेशकश पर टिप्पणी करते हुए रोडकास्ट के सह-संस्थापक विशाल जैन ने कहा, “शहरी मोबिलिटी मार्केट तो तेजी से कुछ संगठनों ने अपने कब्जे में ले लिया है, जो आज इंडस्ट्री को लीड कर रहे हैं। इससे स्वतंत्र टैक्सी वेंडर्स और ट्रांसपोर्टेशन सर्विस प्रोवाइडर्स को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इंडस्ट्री के कुछ दिग्गजों से बढ़ती प्रतिस्पर्धा, घटती आय और कस्टमर्स का ज्यादा स्ट्रीमलाइन सेवाओं की ओर झुकाव है, इस वजह से बड़ी संख्या में लोकल कारोबारियों को एक ऐसे प्लेटफार्म की जरूरत थी जो उन्हें सशक्त बनाएं और उनकी सेवाओं को किफायती बनाते हुए कई फीचर और सेवाएं भी दें। भविष्य में हमारी योजना लोकल वेंडर्स को सेवाओं का फुल सेट देने की है, जिसमें जियो-फेंसिंग, रिमोट लोकेशन से व्हीकल सिक्योरिटी, ऑटो कट-ऑफ इग्निशन जैसी सेवाएं भी शामिल होंगी। हमारा मानना है कि हम पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन स्पेस में सभी को समान मौके मिलना चाहिए। लोकल टैक्सी वेंडर्स को भी ज्यादा कस्टमर और मार्केट शेयर मिलना चाहिए।”
स्थापना से ही रोडकास्ट कमर्शियल और निजी वाहनों के इंटीग्रेशन में सबसे आगे रहा है। कटिंग-एज टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हुए मालिक को वाहनों के मूवमेंट्स के बारे में पूरी जानकारी देने पर फोकस रहता है। हाल ही में प्लेटफार्म ने दिल्ली पुलिस के साथ भागीदारी कर उसके वाहनों को गैजेट्स से लैस किया जो पुलिस वाहनों की स्थिति के बारे में वास्तविक स्थिति की जानकारी देगा। रोडकास्ट के सॉल्यूशन ने फोर्स की क्षमता को उल्लेखनीय रूप से बढ़ाया है और एवरेज रेस्पांस टाइम को कम करने में कामयाबी पाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *