तंबाकू मुक्त पश्चिम बंगाल हमारी भावी पीढ़ी को बचाएगा

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में 2.3 करोड़ लोग धूम्रपान या धूम्र रहित तंबाकू का उपयोग करते हैं। यह बहुत दुख की बात है कि हर साल 1.5 लाख लोग तंबाकू से संबंधित बीमारियों के कारण असामयिक मौत के शिकार होते हैं। पश्चिम बंगाल के गणमान्य व्यक्तियों और विशेषज्ञों ने एक प्रेस कॉन्फ्रेस कर राज्य की इस गंभीर दशा पर चिंता व्यक्त करते हुए भावी पीढ़ी को बचाने के लिए पश्चिम बंगाल को तंबाकू मुक्त बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया है।
नारायण सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल हावड़ा, विंडोज फिल्म प्रोडक्शंस के सहयोग से संबंध हेल्थ फाउंडेशन (एसएचएफ) द्वारा प्रेस क्लब में आयोजित इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में विशेषज्ञों ने कहा, “यह चिंताजनक है कि तम्बाकू का उपयोग सिगरेट और बीड़ी के रूप में और तंबाकू, जर्दा, खैनी के रूप में धूम्ररहित तंबाकू के रूप में किया जाता है, पश्चिम बंगाल में गुटखा का उपयोग कम नहीं हो रहा है। पश्चिम बंगाल को तम्बाकू मुक्त बनाना भावी पीढ़ी और उनके भविष्य को बचाने के लिए अत्यावश्यक है।” प्रेस कॉन्फ्रेस में प्रख्यात फिल्म निर्माता श्रीमती नंदिता रॉय, श्री शिबोप्रसाद मुखर्जी, नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल के वरिष्ठ प्रमुख और गला सर्जन डॉ. सौरवदत्त और अस्पताल के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
गौरतलब है कि ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे ( जीएटीएस) 2016-17 के अनुसार, पश्चिम बंगाल में 2.3 करोड़ या सभी 15 साल के उम्र के वयस्कों में 33.5 प्रतिशत (48.5 प्रतिशत पुरुष और 17.9 प्रतिशत महिलाएं) लोग या तो धूम्रपान करते हैं या धूम्रपान रहित तंबाकू का उपयोग करते हैं। धूम्रपान करने वाले तंबाकू के उपयोग का प्रचलन 16.7 प्रतिशत (31.7 प्रतिशत पुरुष और 0.9 प्रतिशत महिलाएं) है, जबकि धूम्रपान रहित तंबाकू के उपयोग का प्रचलन 20.1 प्रतिशत (22.8 प्रतिशत पुरुष और 17.2 प्रतिशत महिलाएं) है। सर्वेक्षण में यह भी पता चला है कि किसी भी सार्वजनिक स्थान पर धूम्रपान करने के कारण धुएं के संपर्क में आने वाले वयस्कों का प्रसार 22.5 प्रतिशत है, घर में धूम्रपान करने के कारण धुएं के संपर्क में आने वाले वयस्कों का प्रसार 56.1 प्रतिशत है और कार्यस्थल पर धूम्रपान करने के कारण धुएं के संपर्क में आने वाले वयस्कों का प्रसार 57.5 प्रतिशत है। बीड़ी (14.4 प्रतिशत) पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला तंबाकू उत्पाद है, जिसका औसत मासिक खर्च 300.50 रुपए प्रति व्यक्ति प्रति दिन है।
प्रख्यात फिल्म निर्माता श्री शिबोप्रसाद मुखर्जी ने कहा, “श्रीमती नंदिता रॉय और मैंने एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में हमेशा महसूस किया है कि हमारे काम में एक संदेश होना चाहिए जो वास्तव में मावनइ जीवन के बेहतरी के लिए काम करने का हो। चूंकि फिल्में बहुत से लोगों को प्रभावित करती हैं, इसलिए हमने इस माध्यम का उपयोग अपनी आने वाली फिल्म, कोंथो में तंबाकू के उपयोग के खिलाफ जागरूकता फैलाने के लिए किया है। हम इस तंबाकू विरोधी स्कूली अभियान के लिए विंडोज फिल्म प्रोडक्शंस, नारायण हॉस्पिटल्स और संबंध हेल्थ फाउंडेशन के साथ सहयोग करने के लिए स्कूली शिक्षा विभाग की सराहना करते हैं।
इससे पहले, स्कूली शिक्षा विभाग ने बच्चों को तंबाकू विरोधी शपथ दिलाने के साथ एक राज्य-व्यापी तंबाकू विरोधी अभियान शुरू किया था। इस अभियान के दौरान राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में छात्रों ने तंबाकू विरोधी शपथ ली थी। राज्य के शिक्षा मंत्री श्री पार्थ चटर्जी ने 2 जनवरी, 2019 को बिधाननगर सरकार से नंदितारॉय, श्री शिबोप्रसाद मुखर्जी और नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल के प्रसिद्ध चिकित्सक और अधिकारियों की उपसिथति में इस तंबाकू विरोधी पहल की औपचारिक शुरुआत की थी।
शिक्षा विभाग ने स्कूली बच्चों में जागरुकता बढ़ाने के लिए स्कूलों को तंबाकू मुक्त बनाने और अन्य गतिविधियों को संचालित करने के लिए वैधानिक संकेतों से युक्त तंबाकू विरोधी अभियान शुरू करने की घोषणा की थी। पहले चरण में कोलकाता, हुगली, पशिम बर्धमान, बैरकपुर और सिलीगुड़ी जैसे पांच जिले शामिल किए गए थे और उसके बाद शेष जिलों में इस अभियान को शुरू करने की योजना बनाई गई। इस तम्बाकू मुक्त विद्यालय पहल का संबंध हेल्थ फाउंडेशन द्वारा नारायण हॉस्पिटल्स के समर्थन से तकनीकी रूप से समर्थन किया जा रहा है।
नारायण हेल्थ के क्षेत्रीय निदेशक- पूर्व श्री आर वेंकटेश ने कहा, “चिंताजनक रूप से, राज्य में हर दिन 438 बच्चे तम्बाकू का सेवन शुरू करते हैं। जबकि हम नारायण स्वास्थ्य गुणवत्ता स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करके समाज की सेवा कर रहे हैं, हम यह भी दृढ़ता से मानते हैं कि रोकथाम सबसे महत्वपूर्ण पहलू है, इसलिए हम इस कारण से स्कूली बच्चों के बीच तंबाकू के उपयोग को रोकने के लिए प्रतिबद्ध हैं।”
नारायण सुपरस्पेशलिटी अस्पताल के प्रमुख और कैंसर सर्जन डॉ. हर्ष धर ने कहा, मेरे मरीज, जो प्रमुख मुंह के कैंसर के शिकार हैं उन्हें सर्जरी से गुजरना पड़ता है। इस कारण उनके जीवन की गुणवत्ता पर भारी आघात लगता है और हानि होती है। ऐसे लगभग 50 प्रतिशत मरीज एक वर्ष से अधिक जीवित नहीं रह पाते। और वे सभी तंबाकू सेवन करने के लिए पछताते हैं। हम सभी को रोकथाम पर ध्यान देना चाहिए। नारायण हेल्थ युवाओं में जागरूकता लाने और स्कूलों को तंबाकू मुक्त बनाने के लिए सक्रिय रूप से काम कर रहा है। हम शिक्षा विभाग और श्रीमती नंदिता रॉय और श्री शिबोप्रसाद मुखर्जी के प्रयासों की सराहना करते हैं।”
डॉ.धर ने आगे कहा कि धूम्रपान से होने वाले खतरों में कैंसर, क्रोनिक ब्रोंकाइटिस, वातस्फीति, हृदय रोग, स्ट्रोक आदि शामिल हैं, जबकि धूम्रपान के धुंए में शामिल जोखिमों में कैंसर, फेफड़े के रोग, अस्थमा और बच्चों में कान के संक्रमण हैं।
आईडीए पश्चिम बंगाल राज्य शाखा के सचिव डॉ. राजू विश्वास ने कहा, धूम्रपान के अलावा, धूम्रपान रहित तंबाकू का उपयोग भी मौखिक स्वास्थ्यके लिए एक प्रमुख खतरा है और तंबाकू मुक्त स्कूल, बच्चों के साथ ही साथ उनके माता-पिता और शिक्षकों के बीच तंबाकू के उपयोग को रोकने में मदद करेंगे।’
सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम, 2003(सीओपीटीए) की विभिन्न धाराओं के तहत, पुलिस सार्वजनिक स्थानों पर सीओपीटीए का उल्लंघन, प्रत्यक्ष/अप्रत्यक्ष करने विज्ञापन और प्रचार, नाबालिगों को तंबाकू उत्पाद की स्कूल परिसरों से 100 गज के भीतर बिक्री करने के लिए कार्रवाई शुरू कर सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *