आरती इंडस्ट्रीज का वैश्विक कंपनी के साथ 4,000 करोड़ रुपये का अनुबंध निरस्त

नई दिल्ली। रासायनिक कारोबार करने वाली आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड (एआईएल) ने सोमवार को कहा कि एक वैश्विक कंपनी के साथ कृषि रसायानों की आपूर्ति के लिये 4,000 करोड़ रुपये का उसका दीर्घकालिक अनुबंध निरस्त हो गया है। कंपनी ने एक नियामकीय सूचना में कहा है कि उसने जून 2017 में कृषि रसायान क्षेत्र की एक प्रमुख वैश्विक कंपनी के साथ 10 साल के अनुबंध का समझौता किया था। इस अनुबंध से 10 साल के दौरान 4,000 करोड़ रुपये का राजस्व पैदा होने का अनुमान था। कंपनी ने नियामकीय सूचना में कहा है, ‘‘हम आपको यह सूचित करना चाहते हैं कि 15 जून 2020 को आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड को ग्राहक से एक नोटिस प्राप्त हुआ है जिसमें उसने अनुबंध को निरस्त करने का विकल्प चुना है। हमारा मानना है कि इसके पीछे ग्राहक की रणनीति में बदलाव प्रमुख वजह है।’’ इस अनुबंध के समाप्त होने से समझौते के तहत मुआवजे के प्रावधान प्रभाव में आ जायेंगे। ‘‘इसके परिणामस्वरूप आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड (एआईएल) को 12 करोड़ से 13 करोड़ डालर के दायरे में यानी करीब 913 करोड़ रुपये से लेकर 989 करोड़ रुपये तक मुआवजा प्राप्त होगा।’’ एआईएल के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक राजेन्द्र गोगरी ने कहा, ‘‘यह परियोजना हमारे लिये एक प्रमुख वृद्धि कारक पहल थी। इस मामले में जो नोटिस आया है उसके पीछे हमारी कोई पहल नहीं है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘बहरहाल, ग्राहक की रणनीति में बदलाव के कारण इस व्यवसाय में निहित अवसर कम नहीं हो जाते हैं।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *