देसी तरीके से गर्मियों में पसीने की बदबू को कहें अलविदा

-शहनाज हुसैन
अंतर्राष्ट्रीय
ख्याति प्राप्त सौंदर्य विशेषज्ञ है तथा हर्बल क्वीन
गर्मियाँ शुरू हो गई हैं तथा तापमान बढ़ने से पसीना आना आम बात है। गर्मियों में पीसने से मोटापा कम होता है तथाा अनेक बीमारियों से छुटकारा मिलता है लेकिन इस मौसम में पसीने से वातावरण में बदबू, दुर्गन्ध आदि का अहसास भी बढ़ने लगा है। मानसिक तनाव, शारीरिक परिश्रम भावनात्मक उत्तेजना, आहार-बिहार, आनुवंाशिक हार्मोन असंतुलन तथा वातावरण में उच्च तापमान गार्मियों में पसीने का मुख्य कारण माना जा सकता है। पसीने से शरीर में पफंगल इन्फेक्शन हो सकते है।
इस मौसम में शरीर में दुर्गन्ध और बदबू से आदमी और महिलायें दोनों बराबर रूप में परेशान रहते हैं। गर्मियों के मौसम में शरीर का तापमान बढ़ने से पसीने की बदबू परेशानी का सबब बन जाती है। हालाँकि गर्म इलाकों में रहने बाले लोगों के लिए पसीने की समस्या वर्ष भर परेशान करती है लेकिन गर्मियों के आद्रता भरे वातावरण में पसीने की दुर्गन्ध तेजी से फैलती है जबकि सर्दियों में यह दुर्गन्ध ज्यादातर आपके नोटिस मे नहीं आ पाती। वैज्ञानिकों का यह भी मानना है की गर्मियों के सीजन में मानव शरीर में सूंघने की क्षमता शर्दियों की अपेक्षा बढ़ जाती हैं और इसीलिए गर्मियों में पसीने की बदबू ज्यादा नोटिस में आती है जबकि यह समस्या सर्दियों में भी कमोबेश ऐसी ही पायी जाती है। हालांकि पसीना पूरी तरह गंधरहित होता है लेकिन जब पसीना त्वचा के स्तह पर विद्यमान बैक्टीरिया से मिलता है तो बैक्टीरिया पसीने में विद्यमान एसिड को तोड़ कर अलग कर देता है जिससे दुर्गन्ध् आना शुरू हो जाती है। गर्मियों में ज्यादातर अंडरआर्म, पाँवों, हथेली, बालों आदि में पीसने की दुर्गन्ध् से हमें कई बार शर्मिन्दगी झेलनी पड़ जाती है क्येांकि उससे आसपास का माहौल खराब हो जाता है तथा लेाग आपसे दूर भागना शुरू कर देते है। हालाँकि हम पसीने की बदबू से परफयूम, डीओडरेंट, एंटी पेर्सि्परैंट आदि से छुटकारा पाने के सभी उपाय करते हैं लेकिन दूसरी और वैज्ञानिकों का मानना है की पसीने की बदबू से निकलने बाली गन्ध हमारे स्वास्थ्य के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करते हैं तथा इससे हमारे स्वास्थ्य जीवन की राह आसान हो सकती है। वैज्ञानिकों का मानना है की पसीने की बदबू से निकलने वाली गन्ध हमारे भावनात्मक और शरीरिक स्वास्थ्य की जानकारी प्रदान कर सकते हैं तथा वैज्ञानिकों का मानना है की हर व्यक्ति की विशिष्ट शरीरिक गन्ध होती है जिसके आधार पर हम फिंगर प्रिंट्स की तरह उस व्यक्ति की शिनाख्त कर सकते हैं।
लेकिन नीबूं के पानी गुलाबजल, दही, बेंकिग, सोडा ताजे पानी आदि आसान घरेलू उपायोें के माध्यम से आप गार्मियों में पसीने की समस्या से पूरी तरह निजात पा सकते है।
नहाने और बॉडी स्क्रब से त्वचा से गन्दगी, मैल, विषाणु तथा दुर्गन्ध को रोकने में मदद मिलती है। नहाते वक्त शरीर के गर्दन, पाँवों, बगल आदि पर विशेष ध्यान देना चाहिए क्योंकि इन क्षेत्रों में सबसे ज्यादा रोगाणु और दुर्गन्ध फैलती है।
शरीर को रगड़ कर ताजे पानी से नहाने से शरीर से गन्दगी, दुर्गन्ध् तथा रोग के किटाणु का सपफाया हो जाता है तथा यह पसीने की दुर्गन्ध् से छुटकारा पाने का सबसे आसान एवं सरल उपाय है। नहाने के पानी के टब में इत्र, गुलाब जल आदि मिलाने से शरीर में ताजगी का अहसास होता हे तथा शरीर को ठंडक भी प्रदान करते है। जिससे पसीने की बदबू को रोका जा सकता है। चन्दन गुलाब, खस आदि प्राकृतिक उत्पादों वाले बाॅडी शैम्पू तथा शाॅवर जैल उपयोग में लाने से शरीर में ठंडक तथा ताजगी का अहसास होता है। यह उत्पाद प्राकृतिक कूलन्ट तथा किटाणु नाशक एवं एंटी सैप्टिक के रूप में प्रभावी भूमिका अदा करते है जिससे पसीने की बदबू को रोका जा सकता है।
भीषण गर्मियों के दौरान सूती कपड़े पहनिए जिससे पसीने के सूखने में मदद मिलेगी। गर्मियों में प्रतिदिन कपड़े बदलिए तथा खुले तथा हल्के कपड़े ज्यादा उपयुक्त तथा आरामदेह साबित होते है। इस मौसम में पॉलीस्टर, सिन्थेटिक कपड़ों का उपयोग हानिकारक साबित हो सकता है क्योंकि यह पसीने और गन्ध को बाहर जाने से रोकते हैं जिससे आप असहज हो सकते हैं।
गर्मियों में पसीने की बदबू को रोकने के लिए डीओडरेन्ट काफी मददगार साबित होते है। हमेशा हल्का सुगन्धित डीयोेडरेन्ट के प्रयोग को वरीयता दे क्योंकि तेज सुगन्ध् के डीयोडरेन्ट से त्वचा में जलन या संवेदनशील रसायनिक प्रभाव पड़ सकता है जिससे त्वचा खराब हो सकती है तथा त्वचा पर काले धब्बे पड़ सकते है। डीयोरेन्ट का प्रयोग करने से पहले उनका त्वचा पर परीक्षण अत्यन्त जरूरी होता है तथा बिना परीक्षण डीयोडरेन्ट को त्वचा पर कतई नहीं लगाना चाहिए। विकल्प के तौर पर टैलकम पाउडर का प्रयोग लाभदायक साबित होता है क्योंकि यह पसीने को सोख लेता है तथा त्वचा में ताजगी का अहसास करवाता है। परफयूम का चयन करती बार मौसम के मिजाज का जरूर ध्यान रखिए। गर्म तथा आर्द्रता भरे मौसम में हल्का नीबूंदार तथा ताजगी भरा परफयूम ज्यादा असरकारक होगा। गर्म तथा आर्द्रता भरे मौसम में परफयूम की खुशबू तेजी से फैलती है तथा इस मौसम में तेज सुगन्ध् वाला परफयूम उपयोगी नही होगा। गर्म तथा आर्द्रता भरे मौसम में नीबूं चन्दन तथा लवैंडर परफयूम हल्का तथा ताजगी का अहसास देगा। गर्मियों के मौसम में इत्र उपयोग काफी गुणकारी साबित होता है। इत्र को बाथ टब में प्रयोग किया जा सकता है। बेंकिंग सोडा पसीने की दुर्गन्ध् को रोकने में अहम भूमिका अदा करता है। बेकिंग सोडा, पानी तथा नीबूं रस को मिलाकर पेस्ट बना लें तथा इस पेस्ट को अंडर आम्र्स में 10 मिनट तक लगाकर ताते पानी से धो डाले। इसे पसीने की बदबू को रोकने में मदद मिलेगी बेकिंग सोडा तथा टैलकम पाउडर का मिश्रण बना कर इसे अंडर आम्र्स तथा पांवों पर 10 मिनट तक लगाने के बाद ताजे पानी से धो डालिए। इससे पसीने की समस्या से निजात मिलेगी।
गर्मियों में पसीने की बदबू को रोकने के लिए डीओडरेन्ट काफी मददगार साबित होते है। हमेशा हल्का सुगन्धित डीयोेडरेन्ट के प्रयोग को वरीयता दे क्योंकि तेज सुगन्ध् के डीयोडरेन्ट से त्वचा में जलन या संवेदनशील रसायनिक प्रभाव पड़ सकता है जिससे त्वचा खराब हो सकती है तथा त्वचा पर काले धब्बे पड़ सकते है। डीयोडरेन्ट का प्रयोग करने से पहले उनका त्वचा पर परीक्षण अत्यन्त जरूरी होता है तथा बिना परीक्षण डीयोडरेन्ट को त्वचा पर कतई नहीं लगाना चाहिए। विकल्प के तौर पर टैलकम पाउडर का प्रयोग लाभदायक साबित होता है क्योंकि यह पसीने को सोख लेता है तथा त्वचा में ताजगी का अहसास करवाता है। परफयूम का चयन करते वक्त मौसम के मिजाज का जरूर ध्यान रखिए। गर्म तथा आर्द्रता भरे मौसम में हल्का नीबूंदार तथा ताजगी भरा परफयूम ज्यादा असरकारक होगा। गर्म तथा आर्द्रता भरे मौसम में परफयूम की खुशबू तेजी से फैलती है तथा इस मौसम में तेज सुगन्ध् वाला परफयूम उपयोगी नही होगा। गर्म तथा आर्द्रता भरे मौसम में नीबूं चन्दन तथा लवैंडर परफयूम हल्का तथा ताजगी का अहसास देगा। गर्मियों के मौसम में इत्र उपयोग काफी गुणकारी साबित होता है। इत्र को बाथ टब में प्रयोग करने से आपको ताजगी और ठण्डक का अहसास होगा। वेंकिंग सोडा पसीने की दुर्गन्ध् को रोकने में अहम भूमिका अदा करता है। बेंकिग सोडा, पानी तथा नीबूं रस को मिलाकर पेस्ट बना लें तथा इस पेस्ट को अंडर आम्र्स में 10 मिनट तक लगाकर ताते पानी से धो डाले। इसे पसीने की बदबू को रोकने में मदद मिलेगी बेंकिग सोडा तथा टैलकम पाउडर का मिश्रण बना कर इसे अंडर आम्र्स तथा पांवों पर 10 मिनट तक लगाने के बाद ताजे पानी से धो डालिए। इससे पसीने की समस्या से निजात मिलेगी।
पसीने की दुर्गन्ध् वाले शरीर के हिस्सों पर कच्चे आलू के स्लाईस रगड़ने से भी पसीने की दुर्गन्ध् से छुटकारा मिलता है। नहाने के टब के पानी में फिटकरी तथा पुदीने की पत्तियों डालकर नहाने से भी शरीर में ठण्डक तथा ताजगी का अहसास होता है तथा पीसने समस्या से छुटकारा मिलता है। नहाने के पानी के टब में गुलाब जल मिलाने से प्राकृतिक शीलता तथा कोमलता मिलती है। दो बूंद ट्री आॅयल तथा दो चम्मच गुलाबजल मिलाकर इस मिश्रण को काटनवूल की मदद से अंडरआम्र्स में लगाने से पसीने की समस्या से निजात मिलती है।
गर्मियों में बालों में पसीने की समस्या से सिर से खट्टे दही या सड़े हुए अण्डे की दुर्गन्ध आती हैं। इसके लिए आप पुदीने का इस्तेमाल कर सकती हैं। गर्मियों में ठण्डक पाने के लिए पुदीना उत्तम माना जाता है। पुदीना एंटी ऑक्सीडेंट, विटामिन, मिनरल गुणों से भरपूर माना जाता है जिससे पुदीना खोपड़ी को प्राकृतिक ठण्डक प्रदान करता हैं। पुदीना हेयर पैक के लिए पुदीना की एक गड्डी, 6-8 टिक्की कपूर, और एक चम्मच निम्बू रस लेकर रख लें। सबसे पहले पुदीने की पत्तियों को ताजे साफ पानी से धो कर कपूर और पुदीने की पत्तियों को थोड़े से पानी में मिक्सी में डाल इसका गाड़ा मिश्रण बना लें। इस मिश्रण में एक चम्मच निम्बू डाल कर बने मिश्रण को दस्तानों की मदद से सिर के विभिन्न हिस्सों में लगा कर एक घण्टे बाद ताजे ठन्डे पानी से धो डालिये। इससे सिर में पसीने की बदबू से लाभ मिलेगा। बालों से पसीने की दुर्गन्ध् को रोने के लिए एक कप पानी में गुलाब जल तथा नीबूं रस को मिलाकर बालों को धोने से पसीने की बदबू खत्म हो जाएगी। बालों में दुर्गन्ध को रोकने के लिए हमेशा अच्छी कवालिटी का वाॅश प्रयोग में लाना चाहिए जोकि बालों में जमी गन्दगी और खोपड़ी पर जमा तेल हटा सकें। कोई भी घटिया वाॅश प्रयोग करने से आपके बालों में गन्दगी जमा रहेगी जिससे दुर्गन्ध फैलती रहेगी। अपने बालों पर शैम्पू लगा कर इसकी अच्छे तरीके से खोपड़ी पर मालिश कर के खोपड़ी पर झाग बना कर बालों को ताजे पानी से हमेशा अच्छी तरह धोएं
आर्युवैद के अनुसार खाने के बाद नीबूं पानी, अदरक चाय को उपयोग करे। ताजे अदरक के बारीक टुकडे में सेंधा नमक मिलाकर चूसिए। आहार के साथ गर्म पानी पीजिए। हल्का तथा मसाला रहित सादा खाना खाईए तथा थोड़े समय के बाद हल्का हल्का खाना खाते रहिए। तेज गन्ध बाले जैसे लहसुन, ब्रोकोली, मछली, जंक फूड आदि से परहेज कीजिये तथा सलाद, जूस, नारियल पानी, निम्बू पानी, ताजे फल, बुरांश का पानी आदि को अपने आहार में शामिल कीजिये। हरी सब्जियां प्राकृतिक तौर पर दुर्गन्ध दूर करने में सहायक होती हैं तथा हरा ताजा सलाद न केवल आपकी त्वचा में यौवनता और ताजगी लाता है बल्कि त्वचा की अशुद्धियों को दूर करके त्वचा में प्रकृतिक आकर्षण पैदा करता है।
रात को खाने से पहले टमाटर जूस पीना चाहिए। टमाटर पसीने की बदबू के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया को खत्म करता है।
पान के पत्ते तथा आंवला को पीसकर इसका पेस्ट बना ले तथा इस पेस्ट को अंडर आम्र्स में 10 मिनट तक लगाने के बाद ताजे ठण्डे पानी से नहाने से पसीने की दुर्गन्ध् से मुक्ति मिलती है।
अपने बाथटब में नीम की पत्तियों को रात में साफ करके डाल दें तथा इस पानी से नहाने से पसीने की दुर्गन्ध् के अलावा त्वचा की इन्फैक्शन को रोकने में मदद मिलती है।
बाथ टब में नहाने से एक घण्टा पहले संतरे का छिलका डालकर छोड़ दें। इस पानी से नहाने से शरीर में ताजगी तथा ठण्डक का अहसास होता है।
कुछ मामलों में सांसों की बदबू, ज्यादा पसीने की समस्या और शारीरिक दुर्गन्ध शरीर में बिद्यमान बिमारियों की इंगित करती हैं तथा यदि आप अपनी शरीर की गन्ध में आकस्मिक बदलाव महसूस करें तो तत्काल नजदीकी डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें। आपको ताजगी का अहसास करने के लिए महंगे परफयूम, इत्र या डिओडरंट की ही जरूरत नहीं होती बल्कि अगर आप उचित शरीरिक स्वच्छता की आदतों अनुसरण करें तो आप हमेशा ताजा, सुगन्धित और ऊर्जावान महसूस करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *